भगवान श्रीकृष्ण काल के हथियार, 39 खतरनाक शस्त्र खेत से मिले


मैनपुरी (मानवी मीडिया): उत्तर प्रदेश के मैनपुरी में एक खेत में खुदाई के दौरान किसानों को चार हजार साल पुराने हथियार मिले। इस शस्त्रों में ताम्बें तलवारें, छुरियां, त्रिशूल और भाले समेत 39 चीजें शामिल हैं। इस शास्त्रों ने पुरातत्वविदों (archaeologists) की उत्सुकता बढ़ा दी है। इन हथियारों को भगवान श्रीकृष्ण काल यानी द्वापर युग का बताया जा रहा है। तांबे के हथियारों की जांच के बाद जो रिजल्ट्स सामने आए हैं, उससे आर्कियोलॉजिस्ट काफी रोमांचित हैं। इन हाथियों से इतना तो साफ़ हो गया है कि प्राचीन काल में भी फाइटर्स बड़े हथियारों से लड़ाई करते थे। लड़ाई में वे बड़ी तलवारों का इस्तेमाल करते थे। करीब चार फीट तक लंबे हथियार उस समय होते थे। ये हथियार काफी तेज और सोफिस्टिकेटेड आकार के होते थे।

अब सवाल यह भी उठता है कि क्या ये वही हथियार हैं जिनका प्रयोज कुरुक्षेत्र में हुई महाभारत की लड़ाई में हुआ? हालाँकि, ऐसे कई सवालों के जवाब का जाँच के बाद सामने मिलेगा। बहरहाल, आर्कियोलॉजिस्टों ने हथियारों की जांच के बाद इसे ‘रोमांचक’ करार दिया है। दरअसल, जून के शुरुआत में मैनपुरी के गणेशपुर गांव में एक किसान अपने दो बीघा खेत की जुताई करा रहा था। कई स्थानों पर खेत के ऊबर-खाबर होने के कारण उसे समतल करा रहे थे।

खुदाई कराए जाने के दौरान खेत से तांबे की तलवारें और हार्पून मिले। किसान उन सभी हथियारों को अपने घर ले गया। उसे लगा कि ये सभी हथियार सोने या चांदी से बनी कीमती धातुओं की हैं। हालांकि, खेत से हथियार मिलने की चर्चा पूरे इलाके में फैल गई और किसी ने इस संबंध में स्थानीय पुलिस को सूचित कर दिया। जिसके बाद भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण में आया। उसने इन हथियारों को किसान से हासिल कर इसकी जांच कराई। किसान की खेत से मिले हथियारों की जांच के बाद कुछ एक्सपर्ट्स ने इसे एंटीना तलवारों और हार्पून की उपाधि दी। इसके नीचे एक हुक लगा हुआ था। विशेषज्ञों ने जाँच के बाद कि यह द्वापर युग का हो सकता है। एक्सपट्र्स की माने तो यह बड़ी खोज साबित हो सकते हैं।

Previous Post Next Post