सत्येंद्र जैन की पहले संपत्ति जब्त, अब हुए गिरफ्तार


नई दिल्ली (मानवी मीडियाप्रवर्तन निदेशालय (ई़डी) ने आम आदमी पार्टी (आप) के नेता व दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन को मनी लॉन्ड्रिंग केस में सोमवार को गिरफ्तार किया है। यह कार्रवाई कोलकाता की एक कंपनी से जुड़े हवाला लेन-देन के मामले में की गई है। इससे पहले ईडी ने इसी केस में सत्येंद्र जैन के परिवार और कंपनियों की 4.81 करोड़ रुपये की संपत्तियां कुर्क की थी।

घटनाक्रम से परिचित लोगों ने कहा कि सत्येंद्र जैन को केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) के 2017 के एक मामले में धन शोधन निवारण अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था, जिसमें यह आरोप लगाया गया था कि उन्होंने आय से अधिक संपत्ति अर्जित की थी। कुर्क की गई 4.81 करोड़ रुपये की अचल संपत्तियां अकिंचन डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, इंडो मेटल इंपेक्स प्राइवेट लिमिटेड, प्रयास इंफोसोल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड, मंगलायतन प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड, जेजे आइडियल एस्टेट प्राइवेट लिमिटेड, वैभव जैन की पत्नी स्वाति जैन, अजीत प्रसाद जैन की पत्नी सुशीला जैन और सुनील जैन की पत्नी इंदु जैन की हैं। 

ईडी ने अप्रैल में कहा था कि जांच में पाया गया कि 2015-16 की अवधि के दौरान जब सत्येंद्र कुमार जैन एक लोक सेवक थे, तो उनके द्वारा लाभकारी स्वामित्व वाली और नियंत्रित कंपनियों को हवाला मार्ग के माध्यम से कोलकाता बेस्ड एंट्री ऑपरेटरों को नकद ट्रांसफर के बदले शेल कंपनियों से 4.81 करोड़ रुपये की स्थानीय एंट्री प्राप्त हुईं।

सीबीआई दिसंबर 2018 में पहले ही इस मामले में चार्जशीट दाखिल कर चुकी है। इस साल जनवरी में आम आदमी पार्टी ने दावा किया था कि ईडी पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले सत्येंद्र जैन को गिरफ्तार कर सकती है, जबकि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों को निशाना बनाने के लिए संघीय एजेंसियों का इस्तेमाल करने का आरोप लगाया था। AAP ने मार्च में पंजाब विधानसभा चुनाव जीता और सीमावर्ती राज्य में भगवंत मान के मुख्यमंत्री के रूप में अपनी सरकार बनाई।


Previous Post Next Post