सुप्रीम कोर्ट ने जिला अदालत को किया ट्रांसफर, कहा- शिवलिंग क्षेत्र की सुरक्षा के साथ नमाज भी रहेगी जारी


नई दिल्ली (
मानवी मीडिया)-ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने ने गुरुवार को कहा कि निचली अदालत के न्यायाधीश पहले मुकदमे की अनुरक्षणीयता (मैंटेनेबिलिटी) तय कर सकते हैं। इलाहाबाद हाईकोर्ट में भी ज्ञानवापी से जुड़े मामले पर सुनवाई हुई, जिसे अगले महीने के पहले सप्ताह तक के लिए टाल दिया गया। ज्ञानवापी मस्जिद पर राजनीति लगातार गरमा रही है। गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई चल रही है, वहीं दूसरी ओर ज्ञानवापी मस्जिद में शुक्रवार को जुमे की नमाज भी हुई, जिसे लेकर वहां कड़े सुरक्षा इंतजाम किए गए हैं।


साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि शिवलिंग की सुरक्षा और नमाज की इजाजत देने का उसका 17 मई का अंतरिम आदेश बरकरार रहेगा। मस्जिद कमेटी की याचिका पर जिला अदालत में प्राथमिकता के आधार पर सुनवाई होगी। इसके साथ ही अदालत ने मामले की अगली सुनवाई गर्मी की छुट्टियों के बाद जुलाई के दूसरे हफ्ते में करने का फैसला लिया है।सर्वोच्च अदालत ने ज्ञानवापी मस्जिद मामले को जिला न्यायाधीश वाराणसी को स्थानांतरित करने का आदेश दिया। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया कि उत्तर प्रदेश न्यायिक सेवा के वरिष्ठ और अनुभवी न्यायिक अधिकारी मामले की सुनवाई करेंगे।

Previous Post Next Post