लखनऊ चिकनकारी एसोसिएशन द्वारा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के सम्मान में कार्यक्रम आयोजित

 


लखनऊ (मानवी मीडिया )देश के रक्षा मंत्री एवं लखनऊ से सांसद राजनाथ सिंह के प्रयासों से खादी के बाद देश में पहली बार चिकनकारी को एचएसएन कोड प्राप्त हुआ है।

उसके उपलक्ष्य में चिकनकारी एसोसिएशन द्वारा राजनाथ सिंह के सम्मान में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि

सिंधु घाटी सभ्यता के समय जो वस्त्र भारत में बनते थे उनकी लोकप्रियता भी सारे विश्व में थी ऐसे वस्त्रों की निर्माण होता था की पूरी साड़ी एक अंगूठी से गुजर जाती थी ऐसी अद्भुत कला भारत की रही है। बहुत से ऐसे कर रहे हैं जो विलुप्त होते जा रही हैं लेकिन प्रधानमंत्री  का संकल्प है कि लोकल चीजों के उत्पादन को बढ़ावा दिया जाए और वह रोजगार के दृष्टि से लाभकारी हो लोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देने हेतु सरकार द्वारा विभिन्न इंसेंटिव प्रदान किया जा रहे हैं। देश की अर्थव्यवस्था में हस्तशिल्प का बहुत बड़ा योगदान है और इसमें निर्यात की भी बहुत अधिक संभावनाएं हैं। चिकन व्यवसाय के रोजगार और उसके निर्यात निर्यात को भी और अधिक बढ़ाने हेतु सरकार द्वारा क्या सहयोग प्रदान किया जा सकता है इसकी जानकारी मुझे दी जाएगी तो उसको भी में बढ़ाने में पूरा अपना योगदान प्रदान करूंगा।

लखनऊ चिकनकारी एसोसिएशन संरक्षक एवं विधायक आशुतोष टंडन ने कहा कि लखनऊ चिकन उद्योग के लिए बड़ा सुखद दिन है की आज लखनऊ की चिकनकारी को एचएसएन कोड के माध्यम से पहचान मिली है और जिसका  हमारे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को जाता है इसके लिए हम उनका हृदय तल से आभार व्यक्त करते हैं।

चिकन व्यवसाय ही असली लघुउद्योग है जहां कारीगर के पास काम पहुंचता है और वह अपनी सुविधा से बनाता है और उसको उसका भुगतान प्राप्त होता है।

नारी और महिला सशक्तीकरण के लिए भी चिकन उद्योग बहुत सहायक है क्योंकि कढ़ाई के क्षेत्र में अधिकांश महिलाएं सम्मिलित है।

कार्यक्रम में आगमन पर राजनाथ सिंह ने वहां उपस्थित चिकन कारीगरों से भी संवाद किया और चिकन निर्माण की प्रक्रिया को समझा।

मीडिया प्रभारी प्रवीण गर्ग ने बताया की चिकनकारी एसोसिएशन से अध्यक्ष संजीव अग्रवाल, महामंत्री शालू टंडन विनोद पंजाबी, दिलीप खैर जानी हर प्रसाद अग्रवाल,  सुरेश छबलानी,  परमेश रस्तोगी, जितेंद्र रस्तोगी, अजय खन्ना, भारत अग्रवाल मुख्य रूप से उपस्थित रहे। साथ ही लखनऊ के विभिन्न बाजारों के प्रतिनिधि मंडलों ने भी रक्षा मंत्री का आभार व्यक्त किया।

Previous Post Next Post