ताजमहल पर इस परिवार ने ठोंका दावा, दस्तावेज भी माैजूद


आगरा (मानवी मीडिया)-दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताजमहल पर जयपुर रॉयल फैमिली ने दावा किया है कि ताजमहल उनकी प्रॉपर्टी है। रॉयल फैमिली की सदस्य और भाजपा सांसद दीया कुमारी का कहना है कि उस जगह पर हमारा महल था। दीया कुमारी  के मुताबिक उस वक्त मुगलों का राज था, लेकिन वह प्रॉपर्टी हमारी थी। यह प्रॉपर्टी हमारी विरासत रहीं थी। इस बात के हमारे पोथी खाने में रिकॉर्ड भी है। दीया कुमारी ने कहा कि ताजमहल के बंद दरवाजे के राज खुलने चाहिए। उन्होंने कहा कि जमीन के दस्तावेज हमारे पास हैं, उसमें यह प्रॉपर्टी जो है वो पैसेल था। शाहजहां ने इस पर कब्जा किया, उस समय सरकार उन्हीं की थी। आज भी अगर कोई गवर्नमेंट एक्वायर करती है तो उसके बदल में मुआवजा देती है, हमने सुना है कि उसके बदले में कुछ मुआवजा दिया, लेकिन उस वक्त कोई लॉ नहीं था कि जो अपील की जा सके। दीया कुमारी ने दावा किया है कि उनके पास ऐसे डॉक्यूमेंट मौजूद हैं, जो बताते हैं कि पहले ताजमहल जयपुर के पुराने राजपरिवार का पैलेस हुआ करता था, जिस पर शाहजहां ने कब्जा कर लिया। जब शाहजहां ने जयपुर परिवार का वह पैलेस और जमीन ली तो परिवार उसका विरोध नहीं कर सका, क्योंकि तब उसका शासन था।

 जयपुर राजघराने की जमीन पर बना  है ताजमहल, कोर्ट कहे तो हम दस्तावेज देने को तैयार हैं

उल्लेखनीय है कि भाजपा के अयोध्या मीडिया प्रभारी डॉ. रजनीश सिंह ने कोर्ट में याचिका दायर की है कि ताजमहल के 22 कमरों को खोला जाए। कमरों में बंद राज को दुनिया के सामने लाने के लिए इसे खोलने का अनुरोध किया गया है। पिछले दिनों अयोध्या के संत परमहंस ताजमहल में प्रवेश करने की कोशिश करते पाए गए। इस पूरे मामले ने अब माहौल को गरमा दिया है। ताजमहल या तेजो महालया, यह विवाद की नई जगह बनता दिख रहा है। विश्व के सात अजूबों में से एक ताजमहल पर विवाद कोई नया नहीं है। मुगलों की ओर से देश में शासन के दौरान हिंदू धार्मिक स्थलों को निशाना बनाए जाने को पूरे विवाद का आधार माना जा रहा है। इस मामले में इतिहासविदों की राय अलग है।

Previous Post Next Post