फाउंड्री नगर में बनेगी यूपी की पहली फ्लैटेड फैक्टरी, 125 करोड़ रुपये की आएगी लागत


आगरा (मानवी मीडियाप्रदेश की पहली फ्लैटेड फैक्टरी आगरा के फाउंड्री नगर में बनेगी। बृहस्पतिवार को लखनऊ के लोक भवन में उत्तर प्रदेश लघु उद्योग निगम के बोर्ड की बैठक में फाउंड्री नगर में 21,500 वर्ग मीटर जमीन पर बनने वाली फैक्टरी को मंजूरी दे दी गई। इसके साथ ही कानपुर में 6700 वर्ग मीटर जमीन पर फ्लैटेड फैक्टरी को भी मंजूरी मिली है। 


आगरा के फाउंड्री नगर में बनने वाली इमारत पर 125 करोड़ रुपये की लागत आएगी और 240 यूनिटें यहां लगाई जा सकेंगी। फ्लैटेड फैक्टरी परिसर चार मंजिला होगा, जिसे पूरी तरह से पर्यावरण संरक्षण के अनुकूल बनाए जाने पर सहमति बनी।

यहां बनाई जाएगी फ्लैटेट फैक्टरी 

लखनऊ के लोक भवन में बैठक के बाद उत्तर प्रदेश लघु उद्योग निगम के उपाध्यक्ष राकेश गर्ग ने बताया कि हाथरस रोड पर रामबाग चौराहे से महज एक किमी दूरी पर स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया वाली जगह पर 21,500 वर्ग मीटर जमीन पर बहुमंजिला फैक्टरी परिसर का निर्माण किया जाएगा। 

यहां से यमुना एक्सप्रेसवे 10 किमी दूर, यमुना ब्रिज स्टेशन तीन किमी दूर है। बैठक में प्रमुख सचिव नवनीत सहगल, प्रबंध निदेशक राम यज्ञ दत्त शर्मा, एग्जीक्यूटिव इंजीनियर प्रभात झा, अपर निदेशक कोषागार अजय जौहरी और पब्लिक सेक्टर इंडस्ट्रीज के डायरेक्टर राजीव कुमार श्रीवास्तव भी प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

गारमेंट उद्योग को दी जाएगी प्राथमिकता

उप्र लघु उद्योग निगम के उपाध्यक्ष राकेश गर्ग ने बताया कि बहुमंजिला फैक्टरी परिसर में यूनिट लगाने के इच्छुक उद्यमियों के लिए आवेदन प्रक्रिया जल्द शुरू हो जाएगी। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत टीटीजेड के मापदंड पूरे करने वाले प्रदूषण रहित उद्योग लगाए जाएंगे। इसमें गारमेंट उद्योग को प्राथमिकता दी जाएगी। दिसंबर 2023 तक इसका निर्माण पूरा कर लिया जाएगा। 

सूबे की पहली फ्लैटेड फैक्टरी की खासियतें

  • चार मंजिला परिसर में स्थापित होंगी औद्योगिक इकाइयां
  • फाउंड्री नगर में प्रस्तावित इमारत 21,500 वर्ग मीटर में होगी
  • हर फ्लोर पर एक लाख वर्ग फीट एरिया उपयोग में होगा
  • सामान, कर्मचारियों के लिए नौ लिफ्टें लगाई जाएंगी
  • भूतल पर उद्योग संबंधी आपूर्ति के लिए सपोर्ट फैसिलिटी एरिया बनेगा
  • कर्मचारियों के लिए कैंटीन की सुविधा उपलब्ध रहेगी
  • रेन वाटर हार्वेस्टिंग, सोलर पैनल, एसटीपी बनाया जाएगा
  • जीरो डिस्चार्ज कैंपस होगा, बिजली का अलग सबस्टेशन होगा
  • परिसर के दोनों ओर 18 मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण होगा
  • उद्योगों के लिए एडमिनिस्ट्रेटिव बिल्डिंग ब्लॉक बनाया जाएगा
Previous Post Next Post