प्रधानमंत्री के नेतृत्व में केन्द्र सरकार के 08 वर्ष पूरे होने पर देश भर में गरीब कल्याण सम्मेलन

लखनऊ: (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा कि देश सन् 1947 में आजाद हो गया था और 1947 से ही लगातार देश में कोई न कोई सरकार है, लेकिन शासन की योजनाओं का लाभ बिना किसी भेदभाव के समाज के प्रत्येक तबके तक पहुंचाने का कार्य वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के सत्ता में आने के बाद शुरू हुआ है।

मुख्यमंत्री  आज यहां लोक भवन में आयोजित गरीब कल्याण सम्मेलन के अवसर पर केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद के कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। ज्ञातव्य है कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में केन्द्र सरकार के 08 वर्ष पूरे होने के अवसर पर गरीब कल्याण सम्मेलन का आयोजन देश भर में राज्यों की राजधानियों, जिला मुख्यालयों और कृषि विज्ञान केन्द्रों में किया जा रहा है। प्रधानमंत्री  शिमला, हिमाचल प्रदेश में गरीब कल्याण सम्मेलन में सम्मिलित हुए। इस अवसर पर प्रधानमंत्री  द्वारा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना के तहत वित्तीय लाभ की धनराशि किसानों के खातों में अन्तरित की गई। इसके अन्तर्गत प्रदेश के 2.42 करोड़ कृषकों को अप्रैल, 2022 से जुलाई, 2022 के चार महीनों के लिए 4,949.88 करोड़ रुपए का भुगतान डिजिटल माध्यम से किया गया, जिसमें 2.64 लाख कृषकों का 52.80 करोड़ रुपए का पिछला बकाया भुगतान भी सम्मिलित है। इस प्रकार, योजना के प्रारम्भ से अब तक प्रदेश के किसानों को कुल 47397.48 करोड़ रुपये की सम्मान राशि का भुगतान किया जा चुका है।

प्रधानमंत्री जी के कार्यक्रम से पूर्व, मुख्यमंत्री  लोक भवन में आयोजित गरीब कल्याण सम्मेलन में सम्मिलित हुए। उन्होंने विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं के लाभार्थियों के साथ संवाद किया। इस अवसर पर उन्होंने उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अन्तर्गत 1.5 लाख स्वयं सहायता समूहों के लिए 300 करोड़ रुपए तथा 11,000 बी0सी0 सखी को मानदेय एवं सपोर्ट फण्ड के लिए 15 करोड़ रुपए, कुल 315 करोड़ रुपए की धनराशि का डिजिटल हस्तांतरण भी किया।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि प्रधानमंत्री  के नेतृत्व में केन्द्र सरकार के यशस्वी 08 वर्ष सफलतापूर्वक पूर्ण हुए हैं। इन 08 वर्षों में देश में लोगों ने व्यापक परिवर्तन होते हुए देखे हैं। देश वैश्विक मंच पर सम्मान प्राप्त कर रहा है। गांव, गरीब, महिला, नौजवान, किसान तथा समाज के विभिन्न तबकों तक शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचा है। उन्होंने केन्द्र एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं का उल्लेख करते हुए कहा कि यह संवाद कार्यक्रम इसलिए आयोजित किया जा रहा है, जिससे शासन की योजनाओं को समाज के अन्तिम पायदान पर बैठे व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए शासन द्वारा किए जा रहे प्रयास को जांचा जा सके तथा उनमें भ्रष्टाचार पर प्रभावी अंकुश लगाया जा सके। इस उद्देश्य से यह संवाद कार्यक्रम बहुत महत्वपूर्ण है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश देश के अन्दर एकमात्र राज्य है, जिसने अपने प्रत्येक गांव में बी0सी0 सखी के माध्यम से बैंकिंग की सुविधा प्रत्येक ग्रामवासी को उपलब्ध करायी है। आज यह नारा बन गया है ‘हर घर बैंक की सुविधा’। यहीं परिवर्तन प्रधानमंत्री जी लाना चाहते थे और उन्होंने वर्ष 2013-14 में नारा दिया था ‘सबका साथ, सबका विकास’। आज देश की 130 करोड़ जनता का इसमंे ‘विश्वास’ और ‘प्रयास’ दोनों जुड़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि 08 वर्षों में देश के अन्दर 03 करोड़ से अधिक आवास उपलब्ध कराए गए हैं।

प्रधानमंत्री आवास योजना ग्रामीण एवं शहरी के तहत प्रदेश के 43.50 लाख से अधिक गरीबों को एक-एक आवास उपलब्ध कराया गया है। बहुत से ऐसे परिवार जो किसी कारण से इस योजना के तहत आवास से वंचित रह गये थे, उनके लिए प्रदेश सरकार ने मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 01 लाख 08 हजार से अधिक परिवारों को आवास उपलब्ध कराएं हैं। इसके तहत मुसहर, वनटांगिया, थारू, कोल, सहरिया, चेरो समुदाय के लोग, कुष्ठावस्था एवं दैवीय आपदा से प्रभावित लोग तथा कालाजार एवं जे0ई0/ए0ई0एस0 से प्रभावित लोग शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि देश के अन्दर स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण एवं शहरी) के तहत 11 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों के लिए शौचालय बनवाए गए हैं। प्रदेश में ग्रामीण क्षेत्रों में 2.61 करोड़ से अधिक तथा शहरी क्षेत्रों में 09 लाख से अधिक शौचालय बनवाए गए हैं। प्रदेश की प्रत्येक ग्राम पंचायत में सामुदायिक शौचालयों का निर्माण कराकर उनका संचालन महिला स्वयं सहायता समूह को सौंपा गया है और उनके रख-रखाव के लिए प्रत्येक माह 09 हजार रुपए की धनराशि उपलब्ध करायी जा रही है। शौचालय नारी गरिमा का प्रतीक भी बन गए हैं। हमने इसे इज्जत घर नाम दिया है। यह बीमारियों से मुक्ति की दिशा में बहुत महत्वपूर्ण सिद्ध हुए है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना’ के अन्तर्गत प्रदेश में

1.67 करोड़ परिवारों को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है। राज्य सरकार होली व दीपावली पर इसके तहत कुल 02 निःशुल्क एल0पी0जी0 सिलेण्डर प्रदान करेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश में पर्याप्त जल संसाधन हैं। लेकिन बहुत सी जगहों पर इसके वितरण में भेदभाव होता था। ‘जल जीवन मिशन’ के अन्तर्गत प्रधानमंत्री  के ‘हर घर नल जल’ के संकल्प के तहत प्रदेश के 36 लाख परिवारों को अब तक शुद्ध पेयजल की सुविधा उपलब्ध करायी जा चुकी है। प्रदेश के शहरी क्षेत्रों में भी इस सुविधा का लाभ दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना’ में उत्तर प्रदेश देश में प्रथम स्थान पर है। प्रदेश में इस योजना के अन्तर्गत 08 लाख से अधिक स्ट्रीट वेंडर्स को जोड़ा गया है। कोरोना कालखण्ड में अनेक प्रवासी श्रमिक घर वापस आए। प्रधानमंत्री जी ने राशन कार्ड की नेशनल पोर्टेबिलिटी की व्यवस्था लागू की। इसके माध्यम से उत्तर प्रदेश का राशन कार्ड धारक किसी भी अन्य राज्य में जाकर राशन प्राप्त कर सकता है। नेशनल पोर्टेबिलिटी के तहत ‘वन नेशन वन राशन कार्ड’ की सुविधा का लाभ प्रदेश के 08 लाख से अधिक प्रवासी श्रमिक एवं कामगार ले रहे हैं। उन्होंने कहा कि ‘आयुष्मान भारत योजना’ के अन्तर्गत प्रदेश के गरीब एवं वंचित परिवारों को 05 लाख रुपए तक का स्वास्थ्य बीमा कवर उपलब्ध कराया गया है। इसका दायरा बढ़ाते हुए निर्माण श्रमिकों को भी इस योजना से जोड़ा गया है। इसके अन्तर्गत प्रदेश में 10 करोड़ लाभार्थियों को इसका लाभ दिया जा रहा है।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि प्रदेश में 2.55 करोड़ किसानांे को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के अन्तर्गत वर्ष में 6,000 रुपए की धनराशि दी जा रही है। आज इसकी 11वीं किस्त का हस्तांतरण प्रधानमंत्री जी शिमला में डिजिटल माध्यम से करेंगे। उन्होंने कहा कि ‘प्रधानमंत्री मुद्रा योजना’, ‘प्रधानमंत्री स्टैंडअप योजना’, ‘प्रधानमंत्री स्टार्टअप योजना’ एवं प्रदेश सरकार की ‘एक जनपद एक उत्पाद योजना’, ‘विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना’ ‘मुख्यमंत्री स्वरोजगार योजना’ और ऐेसी ही अन्य योजनाओं का लाभ प्रत्येक व्यक्ति तक बिना किसी भेदभाव के उपलब्ध कराया जा रहा है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री जी ने प्रधानमंत्री  के 08 वर्षों के सफल कार्यकाल के लिए उन्हें हृदय से बधाई देते हुए कहा कि प्रधानमंत्री  ने प्रदेश के विभिन्न वर्गों को योजनाओं का लाभ उपलब्ध कराया है। केन्द्र व प्रदेश सरकार समाज के सभी वर्गों के लिए शासन की योजनाओं का लाभ पहुंचाने के लिए प्रतिबद्ध है। एक संवेदनशील सरकार बिना किसी भेदभाव के यह कार्य कर रही है।

कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उप मुख्यमंत्री  ब्रजेश पाठक ने कहा कि प्रधानमंत्री  के नेतृत्व एवं मार्गदर्शन में गरीब कल्याण की योजनाएं चलाकर सरकार ऐसे परिवारों को समाज की मुख्य धारा में लाने का कार्य कर रही है। उप मुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि सरकार का लक्ष्य गरीबी मिटाना तथा उन्हें सभी योजनाओं का लाभ पहुंचाना है।

इसके पूर्व, मुख्यमंत्री ने केन्द्र व राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थियों से संवाद भी किया। इनमें जनपद सुलतानपुर की बी0सी0 सखी  प्रियंका मौर्य, जनपद बहराइच में प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की लाभार्थी गुड़िया, जनपद उन्नाव में मुख्यमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) की लाभार्थी कु0 गुड़िया देवी, जनपद मथुरा में प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना के लाभार्थी श्री ईलू शर्मा, जनपद सुलतानपुर में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की लाभार्थी सरोजा देवी, जनपद लखनऊ में प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना की लाभार्थी  कुसुम तथा जनपद बुलन्दशहर की विद्युत सखी  क्षमा शर्मा शामिल रहीं।

इस अवसर पर मुख्य सचिव  दुर्गा शंकर मिश्र, कृषि उत्पादन आयुक्त  मनोज कुमार सिंह, सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी तथा केन्द्र एवं राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं के लाभार्थी मौजूद रहे।

Previous Post Next Post