सत्ता में आने के लिए मुझे जेल में डाल दो, उद्धव ठाकरे


मुंबई
(मानवी मीडियामहाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शुक्रवार को मोदी शासित भाजपा सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अगर आप सत्ता में आने के लिए हमे जेल में डालना चाहते हैं तो डाल दीजिए। उनका यह बयान तब सामने आया है जब तीन दिन पहले उनके बहनोई के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने कार्रवाई की। ईडी ने मनी लॉन्ड्रिंग केस में ₹ 6.45 करोड़ रुपए संपत्ति को फ्रीज कर दिया है।

महाराष्ट्र के सीएम और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने भाजपा पर हमला बोला। कहा, "अगर आप सत्ता में आना चाहते हैं, तो सत्ता में आएं। लेकिन सत्ता में आने के लिए ये सब गलत काम न करें। हमारे या किसी और के परिवार को परेशान न करें। हमने आपके परिवार के सदस्यों को कभी परेशान नहीं किया। ऐसा नहीं है कि हम कह रहे हैं कि आपके परिवारों ने कुछ गलत किया है या उनके पास कुछ ऐसा है जिससे हम आपको परेशान कर सकते हैं। अगर आप सत्ता में आने के लिए हमें जेल में डालना चाहते हैं, तो मुझे जेल में डाल दें।"

उद्धव ठाकरे के बहनोई की संपत्ति की जब्ती के दो हफ्ते बाद आयकर विभाग ने उनके बेटे आदित्य ठाकरे, एक मंत्री और सहयोगी अनिल परब के करीबी माने जाने वाले लोगों पर छापेमारी की, जिसके बाद शिवसेना ने भाजपा पर राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने के लिए केंद्र की भाजपा सरकार पर हमला बोला है।

यह कदम दो हफ्ते बाद आया जब आयकर विभाग ने उनके बेटे आदित्य ठाकरे, एक मंत्री और सहयोगी अनिल परब के करीबी माने जाने वाले लोगों पर छापेमारी की, जिससे उनकी पार्टी शिवसेना ने केंद्र में भाजपा पर चुनिंदा राजनीतिक विरोधियों को निशाना बनाने का आरोप लगाया।

श्रीधर माधव पाटनकर उद्धव ठाकरे की पत्नी रश्मि के भाई हैं और  साईबाबा गृहिणीर्मि प्राइवेट लिमिटेड के सर्वेसर्वा हैं। ईडी का दावा है कि पुष्पक बुलियन नाम की कंपनी के खिलाफ चल रहे मनी लॉन्ड्रिंग मामले में कथित रूप से हेराफेरी की गई थी, जिसमें श्री साईबाबा गृहिणीर्मि प्राइवेट लिमिटेड की भी संलिप्तता है।

नवाब मलिक को कर चुकी है गिरफ्तार
पिछले महीने के अंत में महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक को भगोड़े आतंकवादी दाऊद इब्राहिम से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में ईडी ने पूछताछ के बाद गिरफ्तार किया था। वे कम से कम 4 अप्रैल तक न्यायिक हिरासत में रहेंगे। उनसे पहले, महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख, जो शरद पवार की एनसीपी के नेता भी हैं, को ईडी ने पिछले साल नवंबर में गिरफ्तार किया था। वह फिलहाल न्यायिक हिरासत में है।

Previous Post Next Post