दोस्तों को एक-दूसरे की पत्नी से हुआ प्यार, वाइफ स्वेपिंग केस में एक शख्स ने की खुदकुशी

नई दिल्ली (मानवी मीडियामध्य प्रदेश के राजगढ़ के ब्यावरा कलां गांव से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है. यहां एक शख्स ने आत्महत्या कर ली है. आत्महत्या की वजह बहुत हैरान करने वाली है. 

मृतक का नाम मांगीलाल है जिसके परिजन का कहना है कि पत्नियों की अदला-बदली के बाद मांगीलाल को दूसरी पत्नी का पूर्व पति झगड़ा प्रथा के नाम पर परेशान कर रहा था, मारपीट भी करता था और इसी से परेशान होकर उसने अपनी जान दी है.

क्या है पूरा मामला?

दरअसल मांगीलाल की शादी साल 2011 में कृष्णाबाई के साथ हुई थी. शादी के बाद दोनों छापीहेड़ा में रहने लगे थे. जहां पड़ोस में ही हेमराज नाम का युवक रहता था. दोनों के बीच अच्छी दोस्ती हो गई और एक दूसरे के घर आना जाना होने लगा. इसी बीच हेमराज और मांगीलाल की पत्नी कृष्णाबाई के बीच अफेयर चलने लगा. जब इस बात की जानकारी मांगीलाल को लगी तो उसने साल 2014 में हेमराज से झगड़े (प्रचलित झगड़ा प्रथा) के रूप में 1.5 लाख रुपये लिए और पत्नी कृष्णा की शादी हेमराज से करा दी. 

शख्स ने लगाई फांसी 

इसके बाद इस मामले में नया मोड़ तब आया जब 2016 में मांगीलाल व हेमराज की पहली पत्‍नी ने शादी कर ली. मांगीलाल व हेमराज की पहली पत्‍नी के बीच प्यार होने के चलते उन्होंने एक मंदिर पर शादी कर ली व ब्यावरा कला गांव पहुंचकर साथ रहने लगे. यह जानकारी लगने पर हेमराज ने मांगीलाल से झगड़े के रूप में 3 लाख रुपये की मांग की. मृतक के परिजनों का कहना है कि वह 1.5 लाख रुपये दे चुका था, लेकिन बचे 1.5 लाख रुपये के लिए हेमराज द्वारा मांगीलाल पर दबाव बनाया जाता था व मारपीट करता था. इसी के चलते मांगीलाल ने ब्यावरा कला गांव के मकान में फांसी लगाकर जान दे दी.

क्या है ये झगड़ा प्रथा?

झगड़ा प्रथा एक सामाजिक बुराई है जो आज भी राजगढ़ जिले के ग्रामीण क्षेत्रों में चल रही है. झगड़ा प्रथा के अनुसार अगर किसी की पत्नी अपने पति को छोड़कर चली जाती है तो पति झगड़ा मांगता है. इसके बाद समाज की पंचायत में झगड़े की राशि तय होती है और राशि न मिलने तक पूर्व पति पत्नी के गांव में जाकर उपद्रव करता है. वो आगजनी,मारपीट जैसी घटनाओं को अंजाम देता है.


Previous Post Next Post