बीजेपी को वोट देने के चलते घर से निकालने के मामले पर महिला आयोग ने लिया संज्ञान


बरेली (
मानवी मीडिया ) बीजेपी को वोट देने पर घर से निकालने और तलाक की धमकी मामले पर राष्ट्रीय महिला आयोग ने संज्ञान लिया है। महिला आयोग ने यूपी पुलिस कमिश्नर से आरोपी पति के खिलाफ सख्त एक्शन लेने की मांग की है। गौरतलब है कि यूपी के बरेली में एक महिला ने आरोप लगाया था कि बीजेपी को वोट देने के चलते उसके पति ने उसे घर से निकाल दिया और अब तलाक की धमकी दे रहे हैं।

पीड़िता उजमा अंसारी की तहरीर पर बारादरी पुलिस ने मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। उजमा के मुताबिक उसका 2021 में एजाजनगर गौंटिया निवासी तस्लीम अंसारी से निकाह हुआ था। उजमा की मुताबिक सबकुछ ठीक चल रहा था कि एक दिन उनके पति के मामू ने एक दिन उनके घर आकर सपा को वोट देने को कहा। 
उजमा के मुताबिक 14 फरवरी को वोट देने के बाद जब वो घर पहुंची तो उनके पति पति के मामू और देवर आरिफ घर पर थे। आरोप है कि उन्होंने उजमा से पूछा कि वोट किसे दिया? उजमा के मुताबिक उन्होंने कह दिया कि उन्होंने बीजेपी को वोट दिया था जिसके बाद मामला बिगड़ गया।

दोनों ने पहले उजमा को धमकाया और फिर उनके पति से कहकर तलाक दिलाने की धमकी दिलाई। उजमा का आरोप है कि 11 मार्च को उन्हें घर से निकाल दिया गया। उजमा का ये  भी आरोप है कि उन लोगों ने पुलिस में जाने पर तलाक के साथ-साथ उनके भाई की हत्या की भी धमकी दी है। उजमा के मुताबिक उन्होंने तीन तलाक हटाने की वजह से ही बीजेपी को वोट दिया। उजमा का ये भी कहना है कि मुस्लिम महिलाओं ने चोरी छिपे बीजेपी को इसी वजह से वोट किया। बहरहाल पुलिस मामले की जांच कर रही है। मामला क्योंकि बीजेपी को वोट देने से जुड़ा है इसलिए मामले पर सियासत भी जमकर हो रही है।


Previous Post Next Post