हिजाब विवाद पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कोई महिला अपनी पसंद से नहीं पहनती बुर्का


नई दिल्ली (मानवी मीडिया) र्नाटक में जारी हिजाब विवाद के बीच उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं पर हिजाब पहनने के  लिए मजबूर किया जाता है। कोई भी अपनी मर्जी से हिजाब नहीं पहनती है। इंडिया टुडे टीवी को दिए एक इंटरव्यू के दौरान सीएम योगी ने यह बात कही। उन्होंने कहा, "कोई भी महिला पसंद से हिजाब नहीं पहनती है। क्या महिलाओं ने कभी तीन तलाक को पसंद से स्वीकार किया? उन बेटियों और बहनों से पूछो।"

योगी आदित्यनाथ ने कहा, "मैंने उनके आंसू देखे हैं। जब उन्होंने अपनी पीड़ा के बारे में बात की, तो उनके रिश्तेदार आंसू बहा रहे थे।" जौनपुर की एक महिला ने तीन तलाक को खत्म करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद दिया।

कपड़े पहनना व्यक्ति की अपनी पसंद, लेकिन संस्था में अनुशासन जरूरी
योगी आदित्यनाथ ने कहा कि व्यक्तिगत कपड़े एक व्यक्ति की पसंद तक सीमित हैं। उन्होंने कहा, "मैंने किसी भी अधिकारी पर अपनी पसंद की पोशाक के लिए मजबूर नहीं किया। क्या मैं अपने कार्यालय में सभी को भगवा पहनने के लिए कह सकता हूं? क्या मैं अपनी पार्टी में सभी को यह कह सकता हूं? मैं ऐसा नहीं कह सकता। अगर कोई संस्था है कि तो वहां एक अनुशासन होना चाहिए।"

उन्होंने कहा, "हर संगठन को समान नियमों का पालन करना चाहिए। अगर कोई पुलिसकर्मी कहता है कि वह एक विशेष धर्म से है और वह उसके अनुसार तैयार होगा, तो संगठन अराजकता में उतर जाएगा।"

योगी आदित्यनाथ की टिप्पणी कर्नाटक के स्कूलों और कॉलेजों में हिजाब पहनने वाली लड़कियों और महिलाओं पर व्यापक विरोध के रूप में आई है। यह मामला एक महीने पहले तब भड़क गया था जब राज्य के कुछ हिस्सों में हिजाब पहनी कुछ मुस्लिम लड़कियों को कॉलेजों में प्रवेश करने से रोक दिया गया था। इसके बाद से ही राज्य में इसके खिलाफ विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। 

Previous Post Next Post