समाजवादी वायदा खिलाफी में माहिर 2012 में फार्म भरवाकर भी नहीं दिए थे मकान::डा दिनेश शर्मा


लखनऊ / बांदा  (मानवी मीडिया)उपमुख्यमंत्री डा दिनेश शर्मा ने आज बाँदा जिले के तिन्दवारी एवं बबेरु विधानसभा में विशाल जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि  चुनाव में कुछ ताकतें समाज में विघटन पैदा करने की साजिश रच रही हैं। सपा बसपा कांग्रेस एमआईएम जैसे दल आज समाज में बंटवारे की पटकथा पर काम कर रहे है। यह दल बाहर से भले ही अलग दिखते हैं पर इनके दिल और एजेन्डा एक ही है। इनका एकमात्र लक्ष्य भाजपा को सत्ता में आने से रोकने का है। यह वोट काटने का काम करने वाली पार्टियां हैं, जिनका आपस में चोली दामन का साथ है। इनके झांसे में नहीं आना है।  यह जनता की आंख में धूल झोंकने के लिए एक दूसरे के खिलाफ कोरी  बयानबाजी करते है। इनकी आपसी सांठगांठ  से पर्दा अब उठ चुका है। समाजवादी पार्टी के बडे नेतओं के खिलाफ कांग्रेस ने प्रत्याशी नहीं उतारा है  और कांग्रेस की बड़े नेताओं के खिलाफ सपा मैदान में नहीं है।कभी यह खुलकर एक साथ चुनाव लडते हैं तो कभी परदे के पीछे की मिलीभगत रहती है।

बांदा के तिंदवारी और बबेरु में आयोजित सभाओं में डा शर्मा ने कहा कि  जिस प्रकार से अलादीन के चिराग से जिन्न निकलता था उसी प्रकार से विपक्षी दलों के प्रत्याशियों की सूची से गुन्डे माफिया अपराधी  अथवा उनके रिश्तेदार को समर्थन करने वाले सामने आ रहे है। अपराधियों से उनका लगाव  अभी कम नहीं हुआ है। इसके विपरीत भाजपा ने ऐसे किसी भी व्यक्ति को पार्टी से दूर ही रखा है। इसी के कारण आज  भाजपा का रिजेक्टेड माल  विपक्ष का सेलेक्टेड माल बन गया है। भाजपा ने ऐसे प्रत्याशी उतारे हैं जो जनसेवा के लिए 24 घंटे तत्पर रहते हैं।

उत्तर प्रदेश की जमीन पर अपराध और अराजकता का नंगा नाच करने वाले आज जेल में है। सरकार ने ऐसी कडी कार्रवाई की है कि  उनकी आने वाली पीढिया भी अपराध से तौबा करेंगी।

उनका कहना था कि जाति घर्म की राजनीति करने वाले ब्रह्मणों को लेकर तमाम तरह की बाते कर रहे हैं पर उन्हें जान लेना चाहिए कि यह जाति नहीं बल्कि श्रेष्ठ जीवन जीने की पद्धति है संस्कार है।  जो समाज का कल्याण व भारत की संस्कृति का प्रतिपादन चाहता है।  भारत की संस्कृति के प्रतिपादन की विपक्षी दलों से उम्मीद नहीं की जा सकती है क्योंकि वे  तो प्रभु राम के अस्तित्व पर ही सवाल उठाते रहे हैं। इसके विपरीत यूपी की पूरी सरकार अयोध्या जाती है और राम नगरी में भव्य दीपावली मनाई जाती है।

विपक्ष की सरकारों  में अवैध तमंचों और कट्टों के कारखानों के लिए बदनाम हो  रहे बुन्देलखण्ड आज वहां मिसाइल और आटोमैटिक राइफल बनाने का कारखाना लग रहा है।यह सोंच का बदलाव है जो अब जमीन पर उतर रहा है।

बुन्देलखण्ड की स्थिति में 5 वर्ष में बडा बदलाव आया है। केन्द्र सरकार के हाल ही में आए बजट में भी यहां के विकास का खाका मौजूद है।  प्रधानमंत्री द्वारा केन बेतवा प्रोजेक्ट  के लिए 44 हजार करोड की व्यवस्था क्षेत्र की सूरते हाल को और बदल देगी। इससे महोबा बांदा झांसी हमीरपुर जैसे तमाम जिलों के लोगों को लाभ मिलेगा।

पूर्व की सरकारों के समय में बुन्दलेखण्ड की  घरती  पर बंदूक लेकर चलते लोग , बेरोजगार नौजवान  दिखाई देते थे। उस समय में नौकरी के लिए सबसे अधिक पलायन यहीं से होता था। इस हालत के लिए वो लोग जिम्मेदार थे जो समाज को बांटने का काम करते थे। मात्र नारों पर सरकार बनाकर सत्ता में आने वाले विपक्षी दलों ने इस क्षेत्र के संसाधनों को लूटने का काम किया है। पिछले चुनाव में पहली बार यहां की जनता ने सभी 19 सीट भाजपा को जिताकर दी थीं। पार्टी की सरकार ने भी इस क्षेत्र के विकास के लिए कोई कोर कसर नहीं रखी है। विपक्ष की सरकारों में जीवन की मूलभूत आवश्यकताओं की पूर्ति की राह देखते  यहां के लोगों की पीढिया गुजर गई पर आस पूरी नहीं हुई।  पूर्व की सरकारों में  पानी की कमी  से जूझते बुन्देलखण्ड में  भाजपा सरकार हर घर नल योजना से पानी पहुचा रही है। अब माताओं और बहनों को पानी के लिए तपती दोपहर में दूर नहीं जाना पडेगा। विपक्ष की सरकारों में बिजली  विलुप्त ही रहा करती थी। उसका आना भी एक खबर होता था पर अब भाजपा सरकार में गांव में 18 घंटे तहसील में 20 घंटे तथा शहर में 24 घंटे बिजली आ रही है। क्षेत्र की माताओं बहनों को नित्य कर्म से निवृत होने के लिए भी शाम को अंधेरा होने तक इंतजार करना होता था। आजादी के बाद पहली बार किसी ने इस पीडा को समझा तो मोदी योगी सरकार ने समझा  और घर घर शौचालय बनवाए। हर गरीब को मकान के लिए तेजी से काम हुआ है। करीब 43 लाख  मकान बन चुके है और जो रह गए है उनके मकान के लिए अभी हाल में आए बजट में भारी भरकम राशि की व्यवस्था की है। सरकार का संकल्प है कि हर गरीब के पास अपना मकान होगा। 2012 में समाजवादियों ने गरीबों को मकान देने के नाम पर भी फरेब किया और लाखो  लोगों से मकान के लिए  फार्म भरवाए पर मकान के कुछ लोगों को भी नहीं मिले। असल में विपक्ष वायदाखिलाफी करने वाले लोग हैं जो जनता से छल कर अपना स्वार्थ साधते है।  उन सरकारों ने युवा पीढी के भविष्य को भी चौपट कर दिया था। शिक्षा व्यवस्था का बंटाधार कर डाला था और प्रदेश में नकल एक उद्योग बन गया था। भाजपा सरकार ने इस व्यवस्था में बदलाव कर शिक्षा व्यवस्था को सुधारा और नकल विहीन परीक्षा का माडल तैयार किया ।  जिस बुन्देलखण्ड के युवाओं के हाथ में  अब कलम और लैपटाप दिखाई पडते है। सरकार युवाओं का भविष्य संवार रही है।   अब हर मंडल में एक विश्वविद्यालय बनेगा और युवाओं को उच्च शिक्षा के लिए बाहर नहीं जाना पडेगा।  बुन्देलखण्ड एक्सप्रेस वे यहा के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। इसके दोनो  उद्योग लगेंगे और युवाओं को नौकरी मिलेगी। यह सपना भी साकार होता दिख रहा है। पूर्व में बिजली पानी कानून व्यवस्था अवस्थापना सुविधाओं के अभाव के कारण उद्यमी यहां निवेश के लिए नहीं आते थे।  पर अब  भाजपा सरकार के प्रयासों के बाद उद्यमी यहां  बदलाव की नई कहानी लिखने के लिए तैयार है।  डिफेन्स कारीडोर  युवाओं को घर में ही रोजगार दिलाएगा। समृद्ध बुन्देलखण्ड ही भाजपा का संकल्प है। बुन्देलखण्ड में किसानों की खुशहाली के लिए प्रयास जारी हैं।  आने वाले समय में किसानों  को सिंचाई के लिए फ्री बिजली मिलगी। उसकी आमदनी दोगुनी हो यह संकल्प भी हकीकत बनने की ओर है।  सभा में सांसद आरके पटेल सांसद पुष्पेंद्र चंदेल पूर्व सांसद भैरो प्रसाद मिश्रा विधायक चंद्रपाल सिंह कुशवाहा भाजपा अध्यक्ष संजय सिंह उपस्थित थे

Previous Post Next Post