मुख्यमंत्री योगी ने कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ रखने के दिये निर्देश


 लखनऊ (मानवी मीडिया) मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कोरोना संक्रमण से बचाव और उपचार की व्यवस्थाओं को निरन्तर सुदृढ़ रखने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा कि कोविड प्रोटोकॉल का पूर्णतया पालन सुनिश्चित कराया जाए।

मुख्यमंत्री  आज यहां अपने सरकारी आवास पर आहूत टीम-9 की बैठक में प्रदेश में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने कहा कि वर्तमान में कोरोना संक्रमण से प्रभावित बहुत कम संख्या में लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है। यह संक्रमण कम तीव्रता वाला है। इसके लक्षण दिखने पर सामान्य मरीज होम आइसोलेशन में रहकर चिकित्सक की सलाह से अपना इलाज करा सकता है। इससे डरने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन संक्रमण से बचाव की सभी सावधानियां अवश्य बरती जाएं। उन्होंने कहा कि कोविड के खिलाफ वैक्सीन एक सुरक्षा कवच है। उन्होंने किशोर बच्चों के टीकाकरण में धीमी गति वाले जनपदों से संवाद बनाकर वैक्सीनेशन कार्य में तेजी लाने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि स्कूल-कॉलेजों में कैम्प लगाकर तेजी से टीकाकरण की व्यवस्था सुनिश्चित की जाए।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि आगामी 23 जनवरी को प्रस्तावित शिक्षक पात्रता परीक्षा (टी0ई0टी0) के सुव्यवस्थित आयोजन के सम्बन्ध में पुख्ता तैयारियां कर ली जाएं। प्रत्येक केन्द्र पर कोविड प्रोटोकॉल का पालन सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने कहा कि सभी केन्द्रों पर मास्क, सैनिटाइजर तथा इंफ्रारेड थर्मामीटर की व्यवस्था की जाए। परीक्षा केन्द्र निर्धारण में संस्थान के पिछले रिकॉर्ड को अवश्य देखा जाए। दागी/संदिग्ध छवि वाले संस्थानों को परीक्षा केन्द्र न बनाया जाए। परीक्षा की शुचिता के दृष्टिगत अपर मुख्य सचिव गृह तथा ए0डी0जी0 कानून व्यवस्था, प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा साथ सभी जिलाधिकारियों, बेसिक शिक्षा अधिकारियों तथा परीक्षा से जुड़े अन्य अधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से संवाद कर व्यवस्थाओं की पड़ताल करें।

मुख्यमंत्री  ने कहा कि शीतलहर और कोविड को देखते हुए रैनबसेरों में समुचित प्रबन्ध किए जाएं। असहाय, निराश्रित लोगों, अकेले रह रहे बुजुर्गाें, दिव्यांगजन पर विशेष ध्यान दिया जाए। पुलिस, राजस्व, नगर विकास और स्वास्थ्य विभाग की टीम इनके समुचित इलाज, भोजन आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि यदि कोई संक्रमित है तो, उसके साथ अतिरिक्त संवेदनशीलता का भाव होना चाहिए।

मुख्यमंत्री ने विगत दिनों बारिश, ओलावृष्टि के कारण कुछ जनपदों में जन-धन की हुई क्षति का आकलन करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राहत आयुक्त कार्यालय पूरी तत्परता और संवेदनशीलता के साथ प्रभावित लोगों से सम्पर्क कर उन्हें तत्काल सहायता उपलब्ध कराएं।

बैठक में मुख्यमंत्री को अवगत कराया गया कि पिछले 24 घण्टों में राज्य में कोरोना संक्रमण के 15,622 नए मामले सामने आए हैं। इस अवधि में 12,402 व्यक्तियों को सफल उपचार के उपरान्त डिस्चार्ज किया गया। वर्तमान में प्रदेश में कोरोना के सक्रिय मामलों की संख्या 1,06,616 है। पिछले 24 घण्टे में प्रदेश में 02 लाख 16 हजार 152 कोरोना टेस्ट किए गए। अब तक राज्य में 09 करोड़ 65 लाख 34 हजार 686 कोविड टेस्ट सम्पन्न हो चुके हैं।

राज्य में गत दिवस तक 23 करोड़ 15 लाख 37 हजार से अधिक कोरोना वैक्सीन की डोज लगाई जा चुकी हैं। 08 करोड़ 72 लाख 52 हजार से अधिक लोगों को टीके की दोनों डोज देकर कोविड सुरक्षा कवच प्रदान किया जा चुका है। 13 करोड़ 84 लाख 16 हजार से अधिक लोगों ने कोविड वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त कर ली है। इस प्रकार, 18 वर्ष से अधिक आयु के 93.89 प्रतिशत लोगों ने टीके की पहली डोज प्राप्त कर ली है। विगत दिवस तक 15 से 17 आयु वर्ग के किशोरों के कोविड टीकाकरण में 54 लाख 59 हजार से अधिक किशोरों ने टीका कवर प्राप्त कर लिया है। जो टीकाकरण के पात्र किशोरों की आबादी का 38.96 प्रतिशत है। इसी प्रकार 04 लाख 09 हजार से अधिक पात्र लोगों ने प्रिकॉशन डोज भी प्राप्त कर ली है।

Previous Post Next Post