विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण ::मुख्य निर्वाचन अधिकारी


लखनऊः( मानवी मीडिया) भारत निर्वाचन आयोग द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार अर्हता दिनांक 01-01-2022 के आधार पर विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों की निर्वाचक नामावलियों के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम के अन्तर्गत दिनांक 01.11.2021 से 05.12.2021 तक दावे और आपत्तियों प्राप्त करने की अवधि निर्धारित थी।

प्रदेश के समस्त 403 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के सभी पदाभिहित स्थलों पर निर्वाचक नामावलियों के आलेख्य प्रकाशन के दौरान दावे और आपत्तियां प्राप्त की गयी। इस पुनरीक्षण अवधि में डी-डुप्लीकेशन एवं नामावली में विद्यमान त्रुटियों को दूर करने सम्बन्धी कार्य का भी निष्पादन किया गया।

निर्वाचक नामावलियों के पुनरीक्षण हेतु प्रदेश के सभी 18 मण्डलायुक्तों को तथा मेरठ, कानपुर नगर, लखनऊ, अयोध्या, मुरादाबाद मण्डलों के अपर आयुक्तों को भी नामावली प्रेक्षक नियुक्त किया गया था। इन प्रेक्षकों द्वारा भी अपने मण्डलों में पुनरीक्षण कार्य की समीक्षा की गयी है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के अन्य अधिकारियों द्वारा भी विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2022 से सम्बन्धित कार्यों का सतत पर्यवेक्षण एवं समीक्षा की गयी।

विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के दौरान समय-समय पर सभी जिला निर्वाचन अधिकारियों एवं निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों के साथ वीडियो कान्फ्रेसिंग भी की गयी तथा इस कार्यालय के अधिकारियों द्वारा जनपदों में पुनरीक्षण कार्य की समीक्षा हेतु भ्रमण भी किया गया।

इस विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के दौरान आयोग के निर्देशानुसार आलेख्य प्रकाशन से पूर्व मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय एवं राज्यीय राजनैतिक दलों की प्रदेश स्तर पर बैठक आयोजित की गयी तथा प्रदेश के सभी जनपदों मे भी उक्त बैठक की गयी। वर्तमान समय मे प्रदेश मे कुल 1,74,351 पोलिंग स्टेशन हैं।

इस पुनरीक्षण में मतदाता सूची में जेण्डर रेशियो में सुधार परिलक्षित हुआ है, जो कि आलेख्य प्रकाशन के समय 857 था, जो वर्तमान में 868 हो गया है, अर्थात् 11 अंकों की बढ़ोत्तरी हुई है।

इस पुनरीक्षण के दौरान कुल 52,80,882 मतदाताओं के नाम जोड़े गए हैं। इसमें 23,92,258 पुरूष, 28,86,988 महिला एवं 1,636 तृतीय लिंग के मतदाता हैं।

18-19 आयु वर्ग के मतदाताओं के कुल 14,66,470 नाम जोड़े गए जो कुल जोड़े गए नामों का 27.76ः है। निर्वाचक नामावली में वर्तमान में 18-19 आयु वर्ग के कुल मतदाताओं की संख्या 19,89,902 है। जिसमें से 10,62,410 पुरूष, 9,26,945 महिला एवं 547 तृतीय लिंग के मतदाता हैं।

इस पुनरीक्षण अवधि में कुल 21,40,278 मतदाताओं के नाम विभिन्न श्रेणियों के विलोपित किये गये हैं। जिसमें से आयोग के निर्देशन में विलोपन संबंधी कार्यवाहियों के परिणामस्वरूप 10,00,050 मृतक श्रेणी, 3,32,905 शिफ्टेड श्रेणी तथा 7,94,029 रिपीटेड श्रेणी में विलोपित किए गए।

इसी प्रकार मतदाता सूची में विद्यमान विभिन्न श्रेणी की त्रुटियों में          2,37,941 प्रविष्टियों में संशोधन संबंधी कार्यवाही की गई।

ईपी रेशियो जो आलेख्य प्रकाशन के समय 61.21ः था, जो अंतिम प्रकाशन के समय 62.52ः हो गया है अर्थात् 1.31ः की वृद्धि हुई है।

इस प्रकार आलेख्य प्रकाशन के समय प्रदेश में मतदाताओं की कुल संख्या 14,71,43,298 थी, जो दिनांक 05.01.2022 को अन्तिम रूप से प्रकाशित नामावली में मतदाताओं की संख्या 15,02,84,005 हो गयी है।

इस पुनरीक्षण मे दिव्यांग मतदाताओं का ईआरओ नेट पर टैगिंग का कार्य भी कराया गया। वर्तमान समय मे 10,64,266 दिव्यांग मतदाताओं की टैगिंग का कार्य ईआरओ नेट पर किया जा चुका है।

अंतिम प्रकाशित नामावली में 80 वर्ष से अधिक आयु के कुल 24,03,296 मतदाता विद्यमान है।

इस पूरे अभियान के तहत राजनीतिक दल एवं उनके बूथ लेवल एजेण्ट्स हमारे सहभागी रहे हैं। परिवर्धित, अपमार्जित एवं संशोधित किए गए समस्त नामों की सूची सभी स्तरों पर इनके साथ साझा की गयी। हम सभी राजनैतिक दलों एवं उनके द्वारा नियुक्त बूथ लेवल एजेन्ट्स का धन्यवाद देते हैं, जिनके अथक सहयोग से निर्वाचक नामावली को इस रूप मे आज प्रकाशित किया जा रहा है।

अंतिम प्रकाशित मतदाता सूची समस्त मतदेय स्थलों पर एक सप्ताह तक जन-सामान्य के लिए सम्बन्धित बूथ पर प्रदर्शित की जाएगी। उक्त के अतिरिक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी की वेबसाइट पर भी मतदाता सूची उपलब्ध होगी जिसके माध्यम से मतदाता अपना नाम देख सकते हैं तथा टॉल फ्री नं0 1950 पर फोन करके अपने नाम की जानकारी कर सकते हैं। साथ ही अपने बी0एल0ओ0 से सम्पर्क करके भी अपना नाम देख सकते हैं।  

मुख्य निर्वाचन अधिकारी एवं भारत निर्वाचन आयोग की ओर से मीडिया के माध्यम से यह अनुरोध है कि अंतिम प्रकाशित मतदाता सूची में सभी मतदाता अपना नाम अवश्य चेक कर लें।

यह भी अवगत कराना है कि मतदान हेतु मतदाता सूची में नाम होना अनिवार्य है। इस बात के पूर्ण प्रयास किये गये हैं कि कोई भी अर्ह मतदाता छूटने न पाये तथापि यदि किसी मतदाता का नाम किसी कारण से छूट गया है तो वह अपना नाम ऑनलाइन/आफलाइन माध्यम यथा-बूथ लेवल अधिकारी, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारी के कार्यालय से, मतदाता पंजीकरण केन्द्र एवं ीजजचेरूध्ध्अवजमतचवतजंसण्मबपण्हवअण्पद या ीजजचेरूध्ध्दअेचण्पद या अवजमत ीमसचसपदम ंचच इत्यादि के माध्यम से जुड़वा सकते हैं तथा अपना नाम चेक भी कर सकते हैं। मैं मीडिया के माध्यम से लोगों से पुनः अपील करना चाहता हूंॅ कि आज प्रकाशित मतदाता सूची में अपना नाम अवश्य जांच लें और तद्नुसार आवश्यक कार्यवाही करा लें, जिससे मतदान के दिन किसी को भी मताधिकार से वंचित न होना पड़े।

हम प्रदेश के समस्त 1,74,351 बूथ लेवल अधिकारियों, सभी पदाभिहित अधिकारियों, सुपरवाइजर्स, सहायक निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों, निर्वाचक रजिस्ट्रीकरण अधिकारियों तथा जिला निर्वाचन अधिकारियों सहित पूरी टीम को धन्यवाद देते हैं, जिनके अथक परिश्रम से मतदाता सूची शुद्ध एवं समावेशी प्रकाशित की गयी।

मतदाता जागरूकता कार्यक्रम के अन्तर्गत इलेक्टोरल लिट्रेसी क्लब, चुनाव पाठशाला, वोटर अवेयरनेस फोरम, नुक्कड़ नाटक, गायन प्रतियोगिता, रैली, स्लोगन प्रतियोगिता, रेडियो, टी0वी0, प्रिंट मीडिया और सोशल मीडिया के माध्यम से स्पॉट/जिंगल/क्रियेटिव के माध्यम से मतदाताओं को जागरूक किए जाने के विशेष प्रयास किये गए। उक्त के अतिरिक्त जनपदों में ईवीएम, वीवीपैट का भौतिक रूप से प्रदर्शन किया गया तथा समस्त विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में 240 मोबाइल डिमान्सटेªशन वैन के माध्यम से ईवीएम, वीवीपैट का प्रचार-प्रसार किया गया।

उक्त के अतिरिक्त इस विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण के दौरान मीडिया का भी काफी सहयोग रहा। हम मीडिया के समस्त साथियों का बहुत-बहुत धन्यवाद देते हैं और यह अपेक्षा करते हैं कि इसी प्रकार आगे भी आप अपना सहयोग बनाए रखेंगें।

Previous Post Next Post