नवनीत सहगल ने किया तीन दिवसीय सहकार मेले का उद्घाटन



लखनऊ (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश सरकार ने एक-जिला एक उत्पाद योजना के अंतर्गत परंपरागत शिल्प और हुनर को पूरे विश्व में पहुंचाने का कार्य किया है। योजना के अंतर्गत सरकार ने प्रत्येक जनपद के शिल्प और उनसे जुड़े शिल्पकारों को प्रशिक्षण देकर, ऋण वितरण कर और वैश्विक बाजार उपलब्ध करवाकर प्रोत्साहन देने का कार्य किया है। परंपरागत व्यवसाय को आधुनिकता का संबल देकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में प्रदेश सरकार ने कारीगरों और उद्यमियों को स्वयं का व्यवसाय खड़ा करने के योग्य बनाया। यह बातें एमएसएमई, खादी एवं ग्रामोद्योग तथा सूचना विभाग के अपर मुख्य सचिव डॉ. नवनीत सहगल ने कहीं। वह लखनऊ में राजकीय पॉलिटेक्निक परिसर में 17, 18 एवं 19 दिसम्बर को हो रहे सहकार भारती के 7वें राष्ट्रीय अधिवेशन की पूर्व संध्या पर गुरुवार से शुरू हुए तीन दिवसीय सहकार मेले के उद्घाटन अवसर पर बोल रहे थे।

अपर मुख्य सचिव सहगल ने आगे बताया कि आज उत्तर प्रदेश देश की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला राज्य बन गया है। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में भी उत्तर प्रदेश ने बड़ी छलांग लगाते हुए निवेशकों के लिए दूसरा सबसे पसंदीदा डेस्टिनेशन बन गया है। उत्तर प्रदेश आज वन ट्रिलियन इकोनॉमी वाला राज्य बनने की ओर अग्रसर है। सहकार भारती के सभी पदाधिकारियों एवं कार्यकर्ताओं को 7वें राष्ट्रीय अधिवेशन की बधाई। राष्ट्रीय अध्यक्ष रमेश वैद्य ने कहा कि उत्तर प्रदेश के सहकारिता क्षेत्र के लिए सुखद संयोग है। प्रथम बार उत्तर प्रदेश में सहकारिता का 7वां राष्ट्रीय अधिवेशन हो रहा है, जिसमें उपस्थित कार्यकर्ताओं एवं प्रतिनिधियों को देश के प्रथम सहकारिता मंत्री अमित शाह का मार्गदर्शन प्राप्त हो रहा है। सहकार मेला इसी राष्ट्रीय अधिवेशन का एक हिस्सा है, जिसके माध्यम से स्वयं सहायता समूह, सहकारी संस्थाएं और अन्य संस्थाओं के शिल्पकार अपनी कला और हुनर का प्रदर्शन उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में कर रहे हैं।

इस अवसर पर राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम, नई दिल्ली के निदेशक संदीप कुमार नायक ने कहा कि सहकार मेले के आयोजन शिल्पकारों के लिए सर्वश्रेष्ठ अवसर होते हैं। इसके माध्यम से उनका हुनर सार्वजनिक रूप से बहुराष्ट्रीय कंपनियों का सामना करते हुए श्रेष्ठता अर्जित करता है। सहकार भारती के विपणन प्रकोष्ठ राष्ट्रीय प्रमुख एवं प्रबंध निदेशक सिंपली देसी मधुशाला साबू ने कि देश में निरंतर ऐसे सहकार मेलों का आयोजन होते रहना चाहिए। इसके लिए संगठन, सरकार और समाज की अन्य संस्थाओं को इस बारे में स्वस्थ पहल करते रहना चाहिए।

सहकार मेले के उद्घाटन समारोह में मुख्य रूप से सहकार भारती के प्रदेश अध्यक्ष रमाशंकर जयसवाल प्रदेश महामंत्री डॉ. प्रवीण सिंह जादौन, संगठन प्रमुख राजदत्त पांडे, राष्ट्रीय उपभोक्ता प्रकोष्ट प्रमुख नरेंद्र उपाध्याय,महानगर अध्यक्ष डॉ अरुण सिंह, विभाग संयोजक हीरेन्द्र मिश्रा,राष्ट्रीय अधिवेशन मीडिया प्रभारी विवेक राय मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन राजस्थान राज्य के प्रमुख प्रदीप चौबीसा ने किया। इससे पूर्व सभी वक्ताओं ने सहकार मेले के उद्घाटन के साथ अवलोकन किया। सभी अथितियों एवं संगठन के पदाधिकारियों ने स्टॉल संचालकों से बात कर उनका उत्साहवर्धन किया।


Previous Post Next Post