नहीं रहे बिपिन रावत, पूरा देश स्तब्ध 

नई दिल्ली (मानवी मीडिया)- पूरे देश को स्तब्ध करने वाला हादसा आज तमिलनाडु के पर्वतीय नीलगिरि जिले में कुन्नूर के निकट हुआ। इस हादसे में सैन्य हैलीकॉप्टर एमआई-17वी5 क्रैश हुआ। हैलीकॉप्टर में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत व कई सैन्य अफसर मौजूद थे। हादसे में देश ने पहले सीडीएस बिपिन रावत को खो दिया। रावत के निधन की पुष्टि भारतीय वायुसेना ने की है। वायुसेना ने अपने ट्वीटर हैंडल पर इस बात की जानकारी दी। सीडीएस बिपिन रावत का जाना देश के लिए बहुत बड़ा क्षति है। कुल 13 लोगों की मौत हुई है जबकि 1 को बचा लिया गया। इस हादसे से पूरा देश स्तब्ध है। 
भारतीय वायुसेना का एक हैलीकाप्टर बुधवार को तमिलनाडु के कुन्नूर के निकट दुर्घटनाग्रस्त हो गया। वायुसेना ने बताया कि इस हैलीकाप्टर में प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत समेत अन्य लोग सवार थे। हादसे में कुछ शव इतनी बुरी तरह से जल गए कि उनकी पहचान करने में दिक्कत आई। कुन्नूर भारतीय वायुसेना के हैलीकाप्टर क्रैश को लेकर प्रधानमंत्री आवास, लोक कल्याण मार्ग पर सुरक्षा पर केंद्रीय मंत्रिमंडल की सुरक्षा संबंधी समिति (सीसीएस) बैठक बुलाई गई है। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण और विदेश मंत्री एस जयशंकर मौजूद रहेंगे।  वायुसेना ने कहा कि हादसे की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। वायुसेना का एमआई-17वीएच हैलीकाप्टर दुर्घटनाग्रस्त हुआ है। हेलीकॉप्टर ने कोयंबटूर के पास सुलुर वायुसेना अड्डे से उड़ान भरी थी। सीडीएस जनरल रावत वेलिंगटन में 'डिफेंस सर्विसेज कॉलेजÓ (डीएससी) जा रहे थे तभी हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया। टीवी फुटेज में दुर्घटना के बाद हेलीकॉप्टर में आग की लपटें उठती दिखीं। बचावकर्मी, सेना के जवानों के साथ दुर्घटनास्थल से मलबा हटाते देखे गए। वायुसेना का यह हेलीकॉप्टर एमआई सीरीज का था। हेलिकॉप्टर में दो इंजन होते हैं। यह वीआईपी चॉपर कहलाता है। वायुसेना लंबे समय से इसका इस्तेमाल करती आई है। जहां कहीं हवाई पट्टी नहीं होती, वहां पर वीआईपी मूवमेंट इसी हेलीकॉप्टर के जरिए होता है। हेलीकाप्टर सुलूर से वेलिंगटन की ओर जा रहा था तभी काटेरी के निकट उसमें आग लग गई।

Previous Post Next Post