लखीमपुर खीरी हिंसा : 8 गवाहों ने की सुरक्षा हटाने की मांग


लखीमपुर खीरी (मानवी मीडिया) : लखीमपुर खीरी मामले में 90 प्रमुख गवाहों में से आठ चाहते हैं कि उनकी पुलिस सुरक्षा हटा दी जाए। इन गवाहों ने इस संबंध में स्थानीय प्रशासन को पत्र लिखा है। लखीमपुर खीरी के तिकुनिया इलाके में तीन अक्टूबर को चार किसानों समेत कुल आठ लोगों की मौत हो गई थी।

पिछले महीने सुप्रीम कोर्ट के निर्देश पर एक मजिस्ट्रेट के सामने अपना बयान दर्ज करने के बाद पुलिस ने मामले के 90 प्रमुख गवाहों में से प्रत्येक को सुरक्षा प्रदान की थी। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक (एएसपी), अरुण कुमार सिंह ने कहा कि आठ प्रमुख गवाहों ने व्यक्तिगत कारणों का हवाला देते हुए अपनी सुरक्षा वापस लेने के लिए आवेदन जमा किए हैं। उनके आवेदन की सुरक्षा हटाने से पहले समीक्षा की जाएगी।

स्थानीय पुलिस ने उन गवाहों की पहचान उजागर करने से इनकार कर दिया जो अपनी सुरक्षा हटाना चाहते हैं। बता दें कि 3 अक्टूबर को लखीमपुर खीरी के तिकुनिया थाना क्षेत्र के बनबीरपुर गांव के पास एक एसयूवी ने चार किसानों को कुचल दिया था। घटना में दो भाजपा कार्यकर्ता शुभम मिश्रा और श्याम सुंदर, पत्रकार रमन कश्यप और एक ड्राइवर हरिओम मिश्रा सहित चार अन्य लोग भी मारे गए थे।

दो प्राथमिकी - पहली चार किसानों की हत्या के संबंध में और दूसरी चार अन्य की हत्या के संबंध में - तिकुनिया पुलिस स्टेशन में दर्ज की गई थी। मामले की जांच कर रही विशेष जांच समिति ने पहले मामले में आशीष मिश्रा समेत 13 और दूसरे मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक