मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की बहू ने ED के सामने पेश होने से किया इनकार, जानें वजह


कोलकाता (मानवी मीडिया)पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे व टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा ने प्रवर्तन निदेशालय के सामने पेश होने इंकार कर दिया है। तृणमूल कांग्रेस के सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजीरा बनर्जी, जिन्हें प्रवर्तन निदेशालय ने पश्चिम बंगाल में कथित धन शोधन और कोयले की तस्करी से संबंधित एक मामले में तलब किया था, उन्हें बुधवार को नई दिल्ली में एजेंसी के सामने पेश होना था, लेकिन उन्होंने जांच एजेंसी से कहा कि उनके लिए महामारी की स्थिति में यात्रा करना संभव नहीं होगा क्योंकि वह दो बच्चों की 'मां' हैं।

ईडी के सहायक निदेशक को लिखे पत्र में रुजीरा ने कहा, "मैं दो बच्चों की मां हूं और महामारी के बीच शारीरिक रूप से अकेले नई दिल्ली की यात्रा करना मुझे और मेरे बच्चों के जीवन को गंभीर जोखिम में डाल देगा। यह मेरे लिए सुविधाजनक होगा यदि आप मुझे अपने आवास पर कोलकाता में उपस्थित होने के लिए कहने पर विचार करते हैं, क्योंकि आपके संगठन का कार्यालय कोलकाता में है और मैं भी यहां रहती हूं।"

उन्होंने 31 अगस्त को लिखे पत्र में कहा, "मेरी समझ के अलावा, आपकी जांच की विषय वस्तु की कार्रवाई का कथित कारण भी पश्चिम बंगाल से उत्पन्न होता है। मैं अपनी ओर से हर संभव सहयोग का आश्वासन देती हूं।" इससे पहले रुजिरा बनर्जी से उनके आवास पर पूछताछ की गई थी। केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) 23 फरवरी को बंगाल विधानसभा चुनाव से कुछ दिन पहले उनसे पूछताछ करने उनके आवास पर गई थी, जबकि उनकी बहन और परिवार के अन्य सदस्यों से भी पूछताछ की गई थी।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के भतीजे और टीएमसी के राष्ट्रीय महासचिव अभिषेक को कोयला तस्करी मामले में उनकी पत्नी के साथ पिछले महीने के अंत में तलब किया गया था। डायमंड हार्बर से टीएमसी सांसद को 6 सितंबर को दिल्ली में जांच एजेंसी के सामने पेश होने का आदेश दिया गया था, जबकि उनकी पत्नी को बुधवार को पेश होना था। उनके वकील संजय बसु को भी 3 सितंबर को एजेंसी के सामने पेश होने को कहा गया है।

ईडी ने सीबीआई द्वारा दर्ज नवंबर 2020 की प्राथमिकी का विश्लेषण करने के बाद धन शोधन निवारण अधिनियम (पीएमएलए) की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया, जिसमें आसनसोल और उसके आसपास बंगाल के कुनुस्तोरिया और कजोरा इलाकों में ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड की खदानों से जुड़े करोड़ों रुपये के कोयला तस्करी घोटाले का आरोप लगाया गया था। ईडी ने दावा किया कि अभिषेक अवैध व्यापार से प्राप्त धन के लाभार्थियों में से एक था, हालांकि टीएमसी नेता ने सभी आरोपों से इनकार किया है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र