महंत नरेन्द्र गिरी की श्रद्धांजलि यात्रा में श्रद्धालुओं की उमड़ी भीड़


प्रयागराज (मानवी मीडिया)- साधु-संतों की सर्वोच्च संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष मंहत नरेन्द्र गिरी की अंतिम यात्रा का दर्शन करने के लिए सड़कों पर श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ पड़ी। पोस्टमार्टम के बाद श्रीमठ बाघम्बरी गद्दी लाए जाने के बाद महंत के पार्थिव शरीर का श्रृंगार किया गया फिर फूलों से सजे वाहन में पार्थिव शरीर को रखकर अंतिम यात्रा निकाली गयी। अंतिम यात्रा को दारागंज होते हुए संगम ले जाया गया। वहां उनके पार्थिव शरीर पर गंगा जल का छिडकाव करने के बाद वापसी में किला के निकट स्थित बड़े हनुमान मंदिर के पास लोगों के दर्शनार्थ यात्रा को थोड़ी देर रोककर पुन: मठ बाघम्बरी गद्दी लाया गया।

श्रद्धांजलि यात्रा के सजे वाहन पर सबसे ऊपर माला फूल से सुसज्जित महंत नरेद्र गिरी का एक बड़ा चित्र लगाया गया है। श्रद्धांजलि यात्रा में तपोनिधि निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज, सचिव रवींद्र पुरी, तपोनिधि निरंजनी के सहयोगी अानंद अखाड़े के पीठाधीश्वर स्वामी बालकानंद गिरि समेत अनेक बड़े संत, दूसरे शहरों से पहुंचे बड़ी संख्या में संत महात्मा और मठ से जुड़े उनके शिष्य शामिल रहे। श्रद्धांजलि यात्रा का दर्शन करने के लिए सड़कों पर अनुयायी, श्रद्धालुओं की बड़ी भीड़ उमड पड़ी।

श्रद्धाजंलि यात्रा के आगे ट्रैक्टर पर ढ़ोल और नगाडे के बीच महंत नरेन्द्र गिरी की शव यात्रा निकाली गयी। इस दौरान मंत्राे का उच्चारण भी किया जा रहा था। यात्रा में तपोनिधि निरंजनी अखाड़े के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद गिरी महाराज, सचिव रवींद्र पुरी, तपोनिधि निरंजनी के सहयोगी अानंद अखाड़े के पीठाधीश्वर स्वामी बालकानंद गिरि समेत बड़ी संख्या में अनेक सन्यासी साथ चल रहे थे। अंतिम यात्रा में महंत के दर्शन को भीड़ उमड पड़ी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र