टाइम्स नॉउ की एंकर द्वारा राहुल गांधी के प्रति अर्नगल भाषा का प्रयोग किया उसको लेकर कांग्रेसजनों में भड़का आक्रोश

 


लखनऊ (मानवी मीडिया)टाइम्स नॉउ की एंकर नविका कुमार द्वारा हमारे सबसे बड़े नेता राहुल गांधी जी के प्रति के प्रति जो अर्नगल भाषा का प्रयोग किया गया उसको लेकर कांग्रेसजनों में भड़का आक्रोश  प्रदेश कांग्रेस द्वारा जोनवार चलाये जा रहे प्रशिक्षण शिविरों में देखने को मिला। प्रशिक्षण शिविर का मीडिया मैनेजमेंट देख रहे कांग्रेस प्रवक्ता विकास श्रीवास्तव ने कहा कि आज कांग्रेस के सभी प्रशिक्षण शिविरों में टाइम्स नॉउ एंकर नविका के साथ ही अर्णव गोस्वामी पर भी कांग्रेस कार्यकर्ताओं का गुस्सा फूटा है। सभी प्रशिक्षिकों एवं कांग्रेस नेताओं ने अपने उदबोधन में विगत् सात सालों में केन्द्र की गलत नीतियों से मीडिया क्षेत्र में बढ़े इस प्रकार के समाज विरोधी  फर्जी चैनलों और पत्रकार को अनियमितता के तहत सरकारी आर्थिक मदद देने का आरोप केन्द्र की मोदी सरकार पर लगाया।

कांग्रेस प्रवक्ता विकास श्रीवास्तव ने बताया कि आज सरकार की निष्पक्ष रिर्पोटिंग और समीक्षा करने वाले पत्रकारों व मीडिया हाउसेस की गिनती बहुत ही सीमित हो चुकी है। आम जनता में गोदी मीडिया के नाम से पहचान रखने वाले कुछ चैनल व उनके पत्रकार अपनी अस्वीकार भाषाशैली और नफरत फैलाने वाले मीडिया कन्टेंट और भ्रामक खबरों के प्रसारण से देश की जनता को गुमराह व मीडिया के प्रति नकारात्मक छवि बना रहे है। इस वजह से अधिकांश लोगों में टीवी और चैनलों को लेकर भी उत्साह गिरता हुआ दिख रहा है।

प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता विकास श्रीवास्तव ने कहा कि विवादास्पद पत्रकार अर्णव गोस्वामी और नविका कुमार पर सुप्रसिद्ध लेखिका और शोधकर्ता डॉ. कोटा निलिमा ने सुप्रीम कोर्ट में मामला दायर किया है। सुप्रीम कोर्ट में डॉ. कोटा ने समाचार कवरेज और बहस की सामग्री का मूल्यांकन कर टीवी डिबेट के माध्यम से इन दोनों विवादास्पद एंकरों पर जो रिपोर्ट प्रस्तुत की है वह बताती है कि 32 सप्ताह की सामाचार सामाग्री, 55 घण्टे के प्रोग्राम, 76 डिबेटों का विशलेषण किया है, जबकि टाइम्स नॉउ की नविका कुमार 24 दिनों की न्यूज सामाग्री, 20 घण्टे के प्रोग्राम और 32 डिबेट का विशलेषण शामिल किया गया है। इस विशलेषण से पता चलता है कि इन दोनों एंकरों की न्यूज कवरेज और टीवी डिबेट का तरीका और भाषा अत्यंत जहरीली और ध्रुवीकरण की रही है। जिसमें इन दोनों पत्रकारों की भाषा, व्यवहार चरित्रहरण, अश्लील मजाक के मामले को भी सुप्रीम कोर्ट ने अत्यंत गंभीरता से लिया है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र