रायबरेली में शुरू हुई मेदांता की हृदय व न्यूरो सर्जरी रोग की ओपीडी

उर्जित हॉस्पिटल एन्ड रिसर्च सेंटर,शांति नगर जेल रोड में  सुबह लगाया गया नि:शुल्क परामर्श शिविर


रायबरेली (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश केरायबरेली वासियों के लिए बड़ी राहत की खबर है। अब दिल ,मस्तिक्ष व् रीढ़ की हड्डी जैसी बड़ी बीमारियों के इलाज के लिए उन्हें बड़े सेंटर नहीं दौड़ना पड़ेगा। लखनऊ के मेदांता हॉस्पिटल के वरिष्ठ एवं सुपरस्पेशलिस्ट डॉक्टर डॉ गणेश सेठ (डीएम कार्डियोलॉजी) प्रत्येक माह के पहले व तीसरे शनिवार को और न्यूरो सर्जन स्पेशलिस्ट डॉक्टर प्रमोद चौरसिया (मस्तिष्क व स्पाइन रोग स्पेशलिस्ट) प्रत्येक माह के पहले व तीसरे बृहस्पतिवार को हर महीने उर्जित हॉस्पिटल एन्ड रिसर्च सेंटर,शांति नगर, जेल रोड में सुबह 10 बजे से दोपहर 2 बजे तक परामर्श के लिए उपलब्ध रहेंगे। 

अभी तक रायबरेली वासियों को इन बीमारियों के परामर्श एवं इलाज के लिए लखनऊ या दिल्ली जाना पड़ता था। अब से स्वास्थ्य परामर्श सेवा हर महीने उपलब्ध रहेगी। आगे आने वाले समय में मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ ऐसे ही और बीमारियों के सुपरस्पेशलिटी स्पेशलिस्ट की सेवाएं प्रदान करने के लिए प्रतिबद्ध है।  

डा प्रमोद चौरसिया ने बताया स्पाइन में समस्या का इलाज नहीं कराने वाले इसके प्रभाव से स्थायी रूप से अपाहिज भी हो जाते हैं। लोग अक्सर ऐसी दशा में अस्पताल पहुंचते हैं जब उनकी बीमारी बहुत बढ़ चुकी होती है। पीठ में दर्द होने को लोग टालते रहते हैं, जबकि यह खतरनाक है। इसकी पहचान भी जल्दी नहीं होती, इसलिए दो-तीन हफ्ते के बाद भी पीठ दर्द में आराम हो तो तुरंत डॉक्टर के पास पहुंचना चाहिए। इसकी पहचान एक्स-रे से नहीं हो पाती है, एमआरआई से होती है। रीढ़ की हड्डी में समस्या का प्रमुख कारण आज कल बदलती लाइफ स्टाइल है।  

डॉ.गणेश सेठ  ने बताया यदि परिवार माता-पिता, भाई, चाचा या दादा-दादी, को अगर 60 वर्ष की आयु से पहले दिल की बीमारी हुई है, तो आपको भी इस बीमारी से जल्दी पीडि़त होने की आशंका लगभग 10 गुना अधिक होती है।पुरुष के लिए 45 वर्ष से ज्यादा, और महिलाओं के लिए 55 वर्ष से अधिक उम्र होने पर दिल का दौरा पड़ने की संभावना अधिक होती है।व्यस्त जीवन शैली के कारण अनियमित आहार, जंक फूड खाना, या अधिक मसालेदार भोजन दिल के दौरे का कारण बनता है।

मेदांता मार्केटिंग हेड अलोक खन्ना ने बताया ,प्रति दिन बड़ी संख्या में रायबरेली से मरीज मेदांता हॉस्पिटल  लखनऊ में आते हैं।   मेदान्ता हॉस्पिटल लखनऊ द्वारा रायबरेली  में ओ.पी.डी. शुरू करने का उद्देश्य ऐसे रोगियों को रायबरेली में ही परामर्श देना है ,व ऐसे रोगी जो सेकंड ओपीनियन के लिए लखनऊ,दिल्ली का रुख करते हैं  उन्हें घर बैठ ये सुविधा प्राप्त कराना है।

उर्जित हॉस्पिटल के मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ.के पी वर्मा का कहना है कि रायबरेली मंडल का मुख्यालय होने की वजह से रायबरेली व आसपास के ज़िलों के मरीज़ बड़ी संख्या में आते हैं, लेकिन कुछ विशेष सुविधायें जब नहीं मिल पाती हैं, तो उन्हें लखनऊ लेकर जाना पड़ता है।  इसी क्रम में अब उर्जित हॉस्पिटल में मेदांता हॉस्पिटल लखनऊ से वरिष्ठ हृदय रोग व कैंसर रोग के डॉक्टरों द्वारा ओपीडी सेवा प्रदान की जाएगी ,यह जिले के लिए गर्व की बात है।डा वर्मा ने वासियों को इस सेवा का ज्यादा से ज्यादा लाभ लेने का आग्रह किया।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र