लालगंज - ऊँचाहार रिंगरोड अब होगा फोर लेन-दिनेश सिंह


लखनऊ। (मानवी मीडिया) प्रदेश के जनपद रायबरेली स्थित लालगंज - ऊँचाहार रिंगरोड अब दो से फोर लेन होगी। जिसमें लगभग छह सौ करोड़ की लागत आने का अनुमान है। रायबरेली में विकास कार्यों की कमान संभाले हुये भाजपा नेता दिनेष प्रताप सिंह के मुताबिक भविष्य की जरूरत के मद्देनजर 106 किलोमीटर की इस रिंगरोड को फोर लेन किये जाने के लिये भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण ने आलापुर, जगतपुर, बाबूगंज और ऊंचाहार में फोर लेन बाइपास का खाका खींचा था। शासन से इसे पहले ही मंजूरी दे दी गई है। मालूम हो कि दिनेश सिंह ने हाल ही में की गयी एक प्रेस कांफ्रेंस में 600 करोड़ रूपये की लागत से रिंग रोड दो लेन से चार लेन किये जाने के बारे में अवगत कराया था और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय से रिंग रोड फेज-2 के एक्सटेंशन की गुजारिश की थी

। जिसे केन्द्रीय मंत्री सड़क परिवहन एवं राजमार्ग, नितिन गडकरी ने इसका जवाब देते हुए बताया  आपका पत्र प्राप्त हुआ, जोकि लालगंज से ऊँचाहार तक के मार्ग को फोरलेन स्वीकृत कराने के संबंध में है। उपर्युक्त पत्र को संबंधित अधिकारी को प्रेषित कर दिया गया है। ऐसा कार्य भारतीय जनता पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार ही कर सकती है कि अपने हारे हुए सांसद प्रत्याशी की अनुशंसा पर 600 करोड़ रूपये की परियोजना दी जाय क्योंकि भाजपा ही वह राजनीतिक दल है जिसमें चाय बेचने वाला कार्यकर्ता प्रधानमंत्री हो सकता है और बूथ अध्यक्ष देश का गृह मंत्री हो सकता है। दिनेश प्रताप सिंह, सदस्य-विधान परिषद, रायबरेली आभार प्रकट करते हुए बताया मैं अपनी ओर से रायबरेली के जन-जन की ओर से भारतीय जनता पार्टी रायबरेली की ओर से आपका हृदय से धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ और विश्वास दिलाता हूँ. कि रायबरेली अब कांग्रेस का पर्यटक स्थल नही बल्कि मोदी और भाजपा का गढ़ हो चुका है। जिला पंचायत चुनाव के बाद आगामी २०२२ चुनाव के लिए स्पष्ट रूप से मजबूती बनाये रखे हुए ही परिणाम जो भी हो, जनता के विकास के लिए कोई सोच तो रहा है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र