खुद कभी नहीं लिखते थे महंत नरेन्द्र गिरी, माैत के बाद मिले 8 पन्ने के सुसाइड नोट ने कई सवाल पैदा किए


प्रयागराज (मानवी मीडिया)-साधु संतों की जानी मानी संस्था अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी की सोमवार को हुई संदिग्ध अवस्था में मौत के बाद उनके कमरे से बरामद आठ पन्ने का सुसाइड़ नोट अपने आप मेें एक रहस्य है और इसकी जांच होनी चाहिए। अखाड़ा परिषद के सेवादारों और मठ के शिष्यों का कहना है कि महंत नरेन्द्र गिरी स्वयं कभी कुछ नहीं लिखते थे। वह मठ के किसी शिष्य या सेवादार से ही लिखवाते थे। नाम नहीं लिखने की शर्त पर एक शिष्य ने बताया कि जब वह कुछ अपने हाथ से लिखते ही नहीं थे तो आठ पन्ने का सुसाइड नोट लिखने का सवाल ही पैदा नहीं होता। इसलिए सुसाइड़ नोट की जांच होनी चाहिए।
शिष्य ने बताया कि मंहत बोलते थे और शिष्य लिखता था। उसके बाद उसी से पढ़कर सुनते थे, उसके बाद उस पर अपन हस्ताक्षर करते थे। कभी यदि उन्होंने कुछ लिखा होगा तो तीन या चार लाइन से अधिक कुछ नहीं लिखा। सेवादार और शिष्यों का कहना है कि पुलिस के पास मौके से मिले आठ पन्ने के सुसाइड़ नोट को महंत श्री कभी नहीं लिख सकते। यह सुसाइड़ नोट किसी अन्य व्यक्ति ने लिखा है। शिष्य ने दावा किया कोई भी शिष्य, सेवादार या मइ से संबंधित अन्य तत्काल देखकर बता सकता है कि उनकी महंत श्री की हैंडराइटिंग है या नहीं। शिष्य ने बताया कि मठ में जब भी कोई साधु संतो की मीटिंग होती थी उसमें भी महंत श्री अपने हाथ से नहीं लिखते थे। वह बोलते थे कोई दूसरा उसे लिखता था। मैटर को सुनकर उसके बाद उसपर सभी संतो के समक्ष हस्ताक्षर किया करते थे।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत की जांच जारी है। इस मामले में आनंद गिरि की हिरासत में लिया गया है, जो नरेंद्र गिरि के शिष्य रहे हैं। अपने सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने आनंद गिरि की जिक्र किया था। इस बीच आनंद गिरि ने एक समझौते की बात की थी, इसी कड़ी को देखते हुए पुलिस तीन अन्य लोगों से पूछताछ करेगी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र