UP STF ने दबोचा क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा की हत्या कर डकैती डालने वाले वांछित आरोपी को


लखनऊ (मानवी मीडिया): उत्तर प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने पठानकोट (पंजाब) में क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा के घर घुसकर उनकी हत्या कर डकैती डालने वाला वांछत डकैत बरेली से आज गिरफ्तार कर लिया। एसटीएफ प्रवक्ता ने यहां यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि पिछले साल 19 अग्रस्त की रात पठानकोट (पंजाब)में क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा अशोक कुमार के घर में घुसकर उनकी हत्या एवं परिवार के अन्य सदस्यों को घायल कर डकैती डाली गई थी। इस घटना में वांछित डकैत छज्जू छैमार को बरेली से गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार डकैत बरेली के बहेड़ी इलाके के पचपेड़ा गांव का रहने वाला है।

उन्होंने बताया कि डकैती की घटना में फरार आरोपी छज्जू छैमार की गिरफ्तारी के लिए पंजाब पुलिस ने एसटीएफ से सहयोग का अनुरोध किया था। इस पर एसटीएफ की बरेली टीम ने सूचना संकलन की कार्रवाई की। इसी क्रम में जानकारी मिली कि डकैती में वांछित छज्जू छैमार अपने गांव में छिपकर रह रहा है। इस सूचना को पंजाब पुलिस से साझा करते हुए उन्हे बरेली बुलाया गया। एसटीएफ की बरेली फील्ड इकाई पंजाब पुलिस और स्थानीय पुलिस को साथ लेकर छज्जू छैमार के गांव पहुंची और उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

प्रवक्ता ने पूछताछ पर बताया कि वह अपने साथी सावन, मोहब्बत,शाहरूख, नौसे, राशिद, आमिर व तीन महिलाओं के साथ शहापुर काॅडी में रहकर चादर व फूल बेचते थेे। इन लोगों के पास एक टैम्पों था, जिससे यह लोग क्षेत्रों घुमते थे और घटना करने के बाद अपना डेरा उठाकर फरार हो जाते थे। इनके टीम की महिला सदस्यों द्वारा घर की रैकी की जाती थी, यही महिलाएं दिन में ही फूल बेचने के बहाने अशोक कुमार के घर में घुस गयी और जानकारी इकठ्ठा कर ली। इसके बाद अपने गैंग के सदस्यों को सारी जानकारी दे दी एवं श्री कुमार का घर चिन्हित करा दिया, जिसमें यह लोग रात्रि में घुसकर छत पर सो रहे पुुरुष, महिलाओं एवं बच्चों को डंडे से मारकर घायल कर दिया और घर में रखे जेवर व पैसा आदि लूटकर फरार हो गए।

उन्होंने बताया कि इस घटना में शामिल इनके कुछ साथी बाद मे पकड़े गये और छज्जू छैमार वहाॅ से भागकर हैदराबाद चला गया गया और कुछ दिन बाद वहाॅ से लौटकर अपने गांव आ गया था और वहीं छिपकर रहने लगा।

गौरतलब है कि क्रिकेटर सुरैश रैना का फूफा अशोक कुमार पठानकोट (पंजाब) में रहकर ठेकेदारी का काम करते थे। उन्होंने ने अपना मकान आबादी से छोड़ी दूर ग्राम थरियाल में बनाया था। मकान गांव से बाहर होने के कारण डकैतो को उसकी रैकी करने एवं घटना करने में काफी आसानी हो गयी। डकैती में घायल अशोक कुमार की बाद में मृत्यु हो गयी तथा उनकी माॅ  सत्या देवी, पत्नी आशा देवी व दो बच्चे गम्भीर रूप घायल हो गये थे। जिस सम्बन्ध में शाहपुर काॅडी थाने पर मामला दर्ज कराया गया था। पंजाब पुलिस गिरफ्तार वांछित डकैत को पठानकोट ले जाने के लिए विधिक कार्रवाई कर रही है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक