अब गैस सिलेंडर हुआ स्मार्ट , जानें क्या हैं इसकी खूबियां


नई दिल्ली (मानवी मीडिया) आपके गैस सिलेंडर में कितनी गैस बची है यह पता करना काफी मुश्किल होता है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। ग्राहकों की इसी समस्या को ध्यान में रखते हुए इंडियन ऑयल कार्पोरेशन लिमिटेड (IOCL) ने नया सिलिंडर बाजार में उतारा है। इस सिलेंडर में अब आसानी से पता कर पाएंगे कि इसमें कितनी गैस बची हुई है। साथ ही यह आपके किचन में लगे सिलेंडर के मुकाबले ज्यादा सुरक्षित भी है।  

जानकारी के अनुसार यह नया कंपोजिट सिलेंडर तीन अलग-अलग परतों में होगा। पहली परत जोकि सबसे अंदर होगी, वह HDPE यानी हाई डेंसिटी पाॅलिथिलिन से बनी होगी। दूसरी लेयर कंपोजिट होगी जो पाॅलीमर से चढ़े फाइबर ग्लास से बनी होगी। तीसरी और आखिरी लेयर एचडीपीई से बनी होगी। ऐसे में कस्टमर अब पहले से जान सकेंगे कि उनके सिलेंडर में कितनी गैस बची हुई है। 

अभी फिलहाल यह स्मार्ट गैस सिलेंडर दिल्ली, गुरूग्राम, हैदराबाद, फरीदाबाद और लुधियाना में मिल रहा है। इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड ने कहा कि जल्द ही इसे देशभर में लाॅन्च कर दिया जाएगा। कंपोजिट सिलेंडर इस समय 5 किलोग्राम और 10 किलोग्राम की साइज में मिल रहा है। ग्राहकों को असुविधा ना हो इसलिए कंपनी ने पुराने गैस सिलेंडर की जगह इसे बदलने की छूट दी है। मौजूदा समय में बिना सब्सिडी वाले 10 किलोग्राम गैस सिलेंडर के लिए 3350 रुपये और 5 किलो गैस सिलेंडर के लिए 2150 रुपये खर्च करने होंगे। 

कंपोजिट सिलेंडर के फायदे 

1- यह एक आधुनिक तकनीक से बनाया गया सिलेंडर है। 

2- मौजूदा गैस सिलेंडर के मुकाबले इसका वजन आधा है। यानी अब भारी गैस सिलेंडर से मुक्ति मिल जाएगी। 

3- यह नया सिलेंडर जहां आप रखेंगे वहां किसी प्रकार का निशान नहीं छोड़ेगा। जिससे आपका किचन पहले की तरह नया बना रहेगा। 

4- इसकी बेहतरीन डिजाइन इसे आकर्षक बनाता है। 


बता दें कि इस महीने की पहली तारीख से बिना सब्सिडी वाले LPG सिलेंडर की कीमतों में 25 रुपये इजाफा देखने को मिला था। मई व जून में घरेलू सिलेंडर के दाम में काेई बदलाव नहीं किया गया था। एक जुलाई को एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में इजाफे के बाद दिल्ली में दाम 834 रुपये हो गए हैं। जनवरी से अबतक एलपीजी सिलेंडर की कीमतों में 140 रुपये का इजाफा हुआ है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक