जनसंख्या नियंत्रण बिल बना तो क्या होगा? उ0प्र0 के 152 विधायकों के हैं 2 से ज्यादा बच्चे

लखनऊ (मानवी मीडिया) उत्तर प्रदेश में आबादी कंट्रोल करने के लिए योगी सरकार ने जनसंख्या नियंत्रण कानून का ड्राफ्ट तैयार किया है। इसके मुताबिक दो से ज्यादा बच्चे वाले लोगों को स्‍थानीय चुनाव लड़ने, सरकारी नौकरी और अन्य कल्य़ाणकारी योजनाओं के लाभ नहीं दिए जाएंगे। इस मसौदा विधेयक के आने के बाद देश भर में बहस छिड़ी है और इस बहस के बीच यह सवाल भी बार-बार उठ रहा है कि यदि यह जनसंख्‍या कानून उत्तर प्रदेश की विधानसभा चुनावों के लिए भी लागू हो जाए तो क्‍या होगा? मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक यूपी की विधानसभा में खुद भाजपा के आधे विधायकों के दो से ज्‍यादा बच्‍चे हैं। कानून आया तो फिर ये विधायक तो आगे चुनाव लड़ने के लिए अयोग्‍य ठहराए जा सकते हैं।  

उत्तर प्रदेश विधानसभा की वेबसाइट पर लोड विधायकों की प्रोफाइल के हवाले से कहा जा रहा है कि भाजपा के 304 विधायकों में से 152 विधायकों के दो से ज्‍यादा बच्‍चे हैं। इनमें से कुछ विधायकों के चार, पांच, छह बच्‍चे भी हैं। एक विधायक के सात और एक के आठ बच्‍चे हैं। सिर्फ 103 विधायकों के दो-दो बच्‍चे हैं। इकलौती संतान वाले 34 विधायक हैं। 

उधर, गोरखपुर से भाजपा के सांसद और फिल्‍म अभिनेता रविकिशन ने संसद में जनसंख्‍या नियंत्रण पर प्राइवेट मेंबर बिल पेश किया है। अब सोशल मीडिया में रविकिशन की इस बात के लिए चर्चा हो रही है कि उनके भी चार बच्‍चे हैं। रविकिशन के दो बेटे और दो बेटियां हैं। 


Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक