दलित उत्पीडन नहीं रुका तो कांग्रेस करेगी प्रदेश भर में आंदोलन - आलोक प्रसाद


लखनऊ (मानवी मीडिया)उत्तर प्रदेश सरकार दलितों को न्याय और सुरक्षा दिलाने में बिल्कुल विफल साबित हुई है। जिस प्रकार हर रोज दलित उत्पीडन की घटनाएं सामने आ रही हैं, इससे सरकार का दलितों के प्रति रवैया सामने आ रहा है, मौजूदा सरकार में दलितों पर अत्याचार का ग्राफ तेजी से बढ़ा है। आजमगढ़ में दलित परिवार के साथ पुलिसिया उत्पीड़न के बाद हमीरपुर के मौदहा कोतवाली में संदिग्ध अवस्था में आरोपी की मृत्यु होने पर सरकार के क्रियाकलापों पर सवाल खड़ा करता है। चंदौली में दलित परिवार का घर जला दिया जाता है, कानपुर में जाति पूछ कर मारा पिटा जाता है, सहारनपुर में दलित युवक की मूंछ कटवा दिया जाता है, गोरखपुर में दिनदहाड़े एक सरकारी कर्मचारी की हत्या कर दी जाती है इन सब दलित उत्पीडन की खबर आने बाद भी सरकार द्वारा ठोस कदम न उठाने के बजाए अपना प्रचार-प्रसार कराने में व्यस्त हैं। लेकिन कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू के नेतृत्व में पीड़ित परिवार के न्याय की लड़ाई लड रही है।

  ऐसी स्थिति में यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी और पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ पूरी कांग्रेस पीड़ित परिवार के साथ खड़ी हैं। प्रदेश में बढ़ते दलित उत्पीडन के खिलाफ तथा हमीरपुर के मौदहा कोतवाली में एक आरोपी की संदिग्धावस्था में मृत्यु होने के सम्बंध में दलित कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन राउत  के निर्देश पर उ.प्र.कांग्रेस कमेटी अनु.जा.वि (दलित कांग्रेस) पीड़ित परिवार के न्याय के लिए प्रदेश भर में 3 अगस्त मंगलवार को दलित स्वाभिमान यात्रा के तहत हर जिले में पत्रकार वार्ता के साथ ज्ञापन दिया जाएगा और यदि अगले 10 दिनों के भीतर यदि सरकार ने उत्पीडन रोकने के लिए ठोस कदम नहीं उठाया तो उ.प्र.कांग्रेस कमेटी अनु.जा.वि (दलित कांग्रेस) पूरे प्रदेश में बड़े स्तर पर आंदोलन करने के लिए बाध्य होगी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र