नई पीढ़ी की सलाहकार बनीं सारिका बाहेती


लखनऊ (मानवी मीडिया) प्रतिष्ठित महिला उद्यमी व समाजसेवी के रूप में देश भर के अन्दर अपनी एक अलग पहचान स्थापित करने वाली नोएडा के Vectus Industries Ltd की डायरेक्टर सारिका बाहेती  नई पीढ़ी के नवनिर्माण को समर्पित राष्ट्रीय स्तर पर उभरते संगठन "नई पीढ़ी फाउंडेशन" में बतौर सलाहकार शामिल हुईं हैं।

वर्ष 2018 में उत्तर प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष हृदय नारायण दीक्षित के हाथों "नई पीढ़ी नारी रत्न सम्मान" से सम्मानित सारिका बाहेती का व्यक्तित्व देश के नई पीढ़ी की तमाम महिलाओं के लिए प्रेरणादायी इसलिए है कि एक उद्यमी व संपन्न परिवार की बेटी और बहू होने के बावजूद उन्होंने खुद को भारतीय संस्कारों और मानवीय पीड़ा से कभी अलग नहीं होने दिया।

       एक पत्नी के रूप में उन्होंने जहां अपने पति के कंधे से कंधा मिलाकर पानी के टैंक का निर्माण करने वाली Vectus इंडस्ट्रीज लिमिटेड को शून्य से शुरू कर 800 करोड़ तक के वार्षिक टर्न ओवर तक पहुंचाने में अपना भरपूर योगदान दिया, वहीं घरेलू जिम्मेदारियों का निर्वहन करते हुये एक मां के रूप में बच्चों की समुचित देखभाल करने के साथ ही मानवीय संवेदनाओं के वशीभूत होकर समाज सेवा का भी कार्य निरंतर करती रहीं । 

"नीरांजली" नामक संस्था उनकी इसी सेवा भावना का नतीजा है, जिसके तहत वे जहां एक तरफ युवाओं में नशा मुक्ति के अभियान को लेकर लगातार संघर्षरत हैं, वहीं दूसरी तरफ जल और पर्यावरण को लेकर भी वह लगातार सेवारत हैं। 

     ज्ञातव्य हो कि कई सेवाभावी औद्योगिक संस्थाओं के साथ जुड़कर काम करने के अलावा वह आज कल 'एम पावर विद सारिका' के जरिए  मोटिवेशनल स्पीकर व कांउसलर की भूमिका में नई पीढ़ी को राह दिखा रही हैं। बताते चलें कि एक सफल गृहणी, सफल उद्यमी, सफल समाजसेवी, होने के साथ ही कार रैली विजेता श्रीमती सारिका, भारत की प्रथम 'फार्मूला वन मार्शल' हैं। 

  इस अवसर पर नई पीढ़ी फाउंडेशन  के राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी ने बताया कि  सारिका बाहेती एक विद्वान महिला हैं, जीवन के विविध क्षेत्रों में उनका अपना गहरा अनुभव हैं, उनके अनुभवों से नई पीढ़ी उर्जान्वित होगी ।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र