जम्मू-कश्मीर में उच्च शिक्षण संस्थान 31 जुलाई के बाद खुलने की संभावना

श्रीनगर (मानवी मीडिया) जम्मू कश्मीर प्रशासन ने रविवार को कहा कि प्रदेश में छात्रों और कर्मचारियों के टीकाकरण की स्थिति को देखते हुए उच्च शिक्षण संस्थानों और कौशल विकास केंद्रों को 31 जुलाई के बाद चरणबद्ध तरीके से फिर से खोलने पर विचार किया जाएगा। इस बीच, सभी सरकारी और निजी शिक्षण संस्थानों को प्रशासनिक उद्देश्यों के लिए सीमित टीकाकरण कर्मचारियों की व्यक्तिगत उपस्थिति की अनुमति दी गई है।

प्रदेश में कोरोना के ताजा मामलों और मौत के आंकड़ों में उल्लेखनीय कमी आने के बाद शैक्षिक क्षेत्र में यह गतिविधि सामने आयी है। प्रदेश में जहां शनिवार को कश्मीर से 117 और जम्मू से 62 सहित कुल 179 कोरोना संक्रमित मामले सामने आए वहीं जम्मू में इस बीमारी से एक और व्यक्ति की जान चली गई।

आपदा प्रबंधन, राहत पुनर्वास और पुनर्निर्माण विभाग की प्रदेश कार्यकारी समिति के अध्यक्ष के रूप में जम्मू-कश्मीर के मुख्य सचिव डाॅ. अरुण कुमार मेहता की अध्यक्षता में आज हुई बैठक के दौरान मौजूदा कोरोना स्थिति की विस्तृत समीक्षा के बाद इस आशय का निर्णय लिया गया। राज्य कार्यकारी समिति की ओर से जारी आदेश में कहा गया, “कुछ जिलों में कोरोना मामलों की संख्या, टीकाकरण और कोविड उपयुक्त व्यवहार के अनुपालन के संबंध में एक महत्वपूर्ण सुधार किया गया है। यहां तक ​​कि सभी जिलों में सार्वजनिक स्वास्थ्य के हित में और सुधार की आवश्यकता है।”

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक