10 अगस्त को देश भर के 15 लाख बिजली कर्मचारी व् इंजीनियर हड़ताल / कार्य बहिष्कार करेंगे

इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2021 के देशव्यापी विरोध सभा के क्रम में प्रदेशभर के बिजली कर्मियों ने किया विरोध प्रदर्शन-10 अगस्त को देश भर के 15  लाख बिजली कर्मचारी व् इंजीनियर हड़ताल / कार्य  बहिष्कार करेंगे


वाराणसी:-(मानवी मीडिया)बिजली कर्मचारियों व्अभियंताओं की राष्ट्रीय समन्वय समिति  नेशनल कोआर्डिनेशन कमेटी  ऑफ़ इलेक्ट्रिसिटी इम्पलॉईस  एन्ड इंजीनियर्स(एनसीसीओईई) के आह्वान पर आज प्रदेश भर के बिजली कर्मचारियों और इंजीनियरों ने  राजधानी लखनऊ में शक्तिभवन समेत अनपरा ओबरा,परीछा ,हरदुआगंज,पनकी, वाराणसी प्रयागराज गोरखपुर ,आजमगढ़ बस्ती,अयोध्या,बरेली,कानपुर, आगरा,झांसी,अलीगढ़,मेरठ ग़ाज़ियाबाद,मुरादाबाद,बुलंदशहर,सहारनपुर समेत प्रदेश के समस्त परियोजनाओं जनपद मुख्यालयों पर जोरदार विरोध प्रदर्शन किये |  बिजली कर्मचारियों ने एलान कियाकि इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट) बिल 2021 वापस न लिया गया तो  15  लाख बिजली कर्मचारी व् इंजीनियर 10 अगस्त को एक दिन की हड़ताल /कार्यबहिष्कार किया जाएगा  ।   उन्होंने केंद्र सरकार से मांग की है कि बिजली क़ानून में व्यापक बदलाव वाले इस बिल को जल्दबाजी में पारित करने के बजाये इसे  संसद की बिजली मामलों की स्टैंडिंग कमेटी को भेजा जाना  चाहिए और कमेटी के सामने  बिजली उपभोक्ताओं और बिजली कर्मियों को अपने विचार रखने का पूरा अवसर दिया जाना चाहिए    वक्ताओं नेकहा कि इलेक्ट्रिसिटी   एक्ट 2003 में उत्पादन का  लाइसेन्स समाप्त कर बड़े पैमाने पर बिजली उत्पादन का  निजीकरण किया गया जिसके  परिणामस्वरुप देश की जनता को निजी घरानों से बहुत महंगी बिजली की मार झेलनी पड़  रही है | अब  इलेक्ट्रिसिटी (अमेंडमेंट)  बिल 2021 के जरिये बिजली  वितरण का लाइसेंस लेने की शर्त समाप्त की जा रही है जिससे बिजली वितरण के सम्पूर्ण निजीकरण का मार्ग प्रशस्त हो जाएगा | इस बिल में प्राविधान है कि क्षेत्र में एक से अधिक बिजली कम्पनियाँ बिना लाइसेंस लिए कार्य कर सकेंगी और  बिजली वितरण हेतु यह निजी  कम्पनियाँ सरकारी वितरण  कंम्पनी का इंफ्रास्ट्रक्चर और  नेटवर्कइस्तेमाल करेंगी उन्होंने बताया कि निजी कम्पनियाँ केवल मुनाफे वालेऔद्योगिक और वाणिज्यिक  उपभोक्ताओं को ही बिजली देंगी जिससे सरकारी बिजली कंपनी की वित्तीय हालत और खराब हो  जाएगी | इस प्रकार नए बिल के जरिये  सरकार बिजली वितरण का सम्पूर्ण निजीकरण करने जा रही है जो किसानों और गरीब घरेलू  उपभोक्ताओं के हित में नही है| इसके बाद 10 अगस्त को राष्ट्रव्यापी हड़ताल की जाएगी | उन्होंने यह भी कहा कि यदि केंद्र सरकार ने 10 अगस्त के पहले संसद में बिल रखा तो देश भर के बिजली कर्मी उसी दिन हड़ताल करेंगे |  

  सभा की अध्यक्षता ई0 केदार तिवारी ने और संचालन अंकुर पाण्डेय ने किया।

सभा को ई0चंद्रशेखर चौरसिया, ए0के0श्रीवास्तव, ई0 सुनील यादव ,ई0 संजय भारती, आर0के0वाही, डॉ0आर0बी0 सिंह,ई0 रामकुमार,मो0 इमरान, गुलाबचंद, वीरेंद्र सिंह,राजेश कुमार,जिउतलाल,आर0के0 पाण्डेय, रमाशंकर पाल,अरविंद प्रकाश रवि,अमितानंद त्रिपाठी, संतोष कुमार अनुनय पाण्डेय, आदि ने संबोधित किया।


    

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र

उत्तर प्रदेश में 40 घंटे तक नहीं थमेगी बारिश:मौसम वैज्ञानिक