खुशखबरी: 12-18 साल के बच्चों के लिए वैक्सीन का ट्रायल पूरा, जानिए कब से शुरु हो सकता है टीकाकरण

नई दिल्ली (मानवी मीडिया) कोरोना टीकों के संकट के बीच जल्द ही 12 से 18 साल के उम्र के बच्चों को ज़ायडस कैडिला की वैक्सीन लगाई जाएगी। इस देशी वैक्सीन का ट्रायल लगभग पूरा हो गया है। अब जुलाई के आखिरी में या फिर अगस्त में इसे लगाना शुरू किया जा सकता है। कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन डॉक्टर एन के अरोड़ा की तरफ से यह बात कही गई है। उऩ्होंने यह भी दावा किया है कि तीसरी लहर थोड़ा लेट आएगी। इस बीच हमारे पास लोगों को टीका लगाने के लिए 6-8 महीनों का समय है।

अहमदाबाद की कंपनी जायडस-कैडिला तीसरे फेज का ट्रायल लगभग पूरा कर चुकी है। जल्द ही कंपनी ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआई)  से इसके इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत मांग सकती है। अगर जल्द मंजूरी मिल जाती है, तो तीसरी लहर से कुछ राहत मिलेगी। जायडस कैडिला की यह वैक्सीन दुनियाभर की अन्य वैक्सीन्स से काफी अलग है। इस वैक्सीन की दो नहीं, बल्कि तीन डोजेस लगाई जाएंगी। बता दें कि इस समय पूरी दुनिया में सिर्फ फाइज़र ही एकमात्र वैक्सीन हौ जो 12 से 18 साल के उम्र के बच्चों को दी जा रही है।

कोविड वर्किंग ग्रुप के चेयरमैन एन के अरोड़ा ने तीसरी लहर पर कहा कि आईसीएमआर ने एक स्टडी की है, जिसमें दावा किया गया है कि तीसरी लहर थोड़ा लेट आएगी। इस बीच हमारे पास लोगों को टीका लगाने के लिए 6-8 महीनों का समय है। आने वाले दिनों में हमारा टारगेट रोजाना एक करोड़ कोरोना टीके लगाने का होगा। उन्होंने कहा कि जाय़डस कैडिला की वैक्सीन अगले महीने के आखिर से 12 से 18 साल  के बच्चों का लगाना शुरू किया जा सकता है। फिलहाल देश में 18 साल से ऊपर के लोगों को कोरोना टीका लगाया जा रहा है। 

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र