भावुक हुए राष्ट्रपति कोविंद, सिर झुकाकर जन्मभूमि की मिट्टी को माथे से लगाया; बोले- कभी नहीं सोचा था राष्ट्रपति बनूंगा


कानपुर (मानवी मीडिया): राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद तीन दिवसीय दौरे पर उत्तर प्रदेश पहुंचे हैं। तय कार्यक्रम के अनुसार महामहिम रविवार सुबह सबसे पहले अपने कानपुर देहात जिले के परौंख गांव पहुंचे। हेलीपैड पर उतरकर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सबसे पहले अपनी जन्मभूमि पर नतमस्तक होकर मिट्टी को स्पर्श कर माथे से लगाया। इसके बाद यहां उन्होंने पथरी देवी मंदिर में दर्शन किए और फिर गांव वालों का अभिनंदन करते हुए सभी को धन्यवाद दिया। राष्ट्रपति के साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के अलावा राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी मौजूद रहीं।कानपुर देहात के अभिनंदन समारोह में राष्ट्रपति कोविंद ने कहा, 'मैंने सपने में भी नहीं सोचा था कि मेरे जैसे गांव के एक साधारण लड़के को देश के सर्वोच्च पद की जिम्मेदारी निभाने का सौभाग्य मिलेगा। लेकिन हमारी लोकतांत्रिक व्यवस्था ने इसे संभव बना दिया है। आज इस अवसर पर मैं देश के स्वतंत्रता सेनानियों को उनके बलिदान और संविधान का मसौदा बनाने वाली समिति को उनके योगदान के लिए नमन करता हूं। मैं आज जहां तक पहुंचा हूं, इसका श्रेय इस गांव की मिट्टी और आप सभी के प्यार और आशीर्वाद को को जाता है।'

इस दौरान राष्ट्रपति बनने की अपनी यात्रा का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि, ''इस गांव और आपके स्नेह से मैं यहां तक पहुंचा हूं। मां- पिता का सम्मान आज किया गया जो हमारी परंपरा है। 2019 में यहां आने का कार्यक्रम तय था लेकिन दिल्ली में लोकतांत्रिक प्रक्रिया के चलते आ नहीं सका। 2020 में कोरोना ने नहीं आने दिया। गांव के लोगों से लेकिन समपर्क बना रहा। गांव की मिट्टी और यादें मेरे साथ हमेशा रहती हैं।''कानपुर कैंट में वह अपने बीमार दोस्त से मिलने उनके घर पहुंचे। अपने दोस्त को देखकर वह बहुत ही खुश हुए। राष्ट्रपति ने अपने दोस्त कृष्ण कुमार से कहा कि जब से उन्हें उनके बीमार होने की जानकारी मिली तब से वह उनसे मिलने के लिए वह बेचैन थे। अब उनसे मिलकर वह काफी खुश हैं। इसके साथ ही राम नाथ कोविंद ने ये भी साफ किया कि वह राष्ट्रपति की नहीं बल्कि एक दोस्त की हैसियत से उनके घर पहुंचे हैं। राष्ट्रपति से मिलने उनके एक और दोस्त मधुसूदन अग्रवाल भी कृष्ण कुमार के घर पहुंचे थे। दोनो दोस्तों से मिलकर वह काफी खुश हुए। कृष्ण कुमार के बेटे विकास अग्रवाल ने बताया कि मुलाकात के दौरान राजनीति या व्यापार को लेकर कोई भी बातचीत वहां नहीं हुई।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र