UPI ट्रांजैक्शन फेल होने पर बैंक रोज देगा 100 रुपए का हर्जाना

नई दिल्ली,(मानवी मीडिया) नए वित्त वर्ष के पहले दिन यानी 1 अप्रैल को देश के सभी सरकारी और प्राइवेट बैंक बंद थे जिस कारण कोई कामकाज नहीं हुआ। इस कारण लेनदेन के लिए ऑनलाइन ट्रांजैक्शन बढ़ गया। इस दौरान NEFT, IMPS और UPI के जरिए पैसे ट्रांसफर करने में ग्राहकों को परेशानी का सामना करना पड़ा। कई बार ग्राहकों का यूपीआई ट्रांजैक्शन फेल हो गया। अगर आपका यूपीआई ट्रांजैक्शन फेल हो जाता है और अकाउंट से कटे पैसे तय समय वापस नहीं आए, तो बैंक आपको रोजाना 100 रुपए का हर्जाना देगा। 

जी हां, अगर आप भी उन लोगों में से एक हैं जिनका ट्रांजैक्शन फेल हुआ है तो आपको रिजर्व बैंक (RBI) की अक्टूबर 2019 की गाइडलाइंस के बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए, इससे आपकी मुश्किल हल हो सकती है। इस सर्कुलर के तहत पैसे के ऑटो रिवर्सल को लेकर एक समयसीमा तय की गई है। अगर इस समयसीमा के अंदर ट्रांजैक्शन का सेटलमेंट या रिवर्सल नहीं हुआ तो बैंक को ग्राहकों को मुआवजा देना होगा। सर्कुलर के मुताबिक, समयसीमा खत्म होने के बाद 100 रुपए रोज के हिसाब से मुआवजा देना होगा।
 
सर्कुलर के मुताबिक, अगर UPI ट्रांजैक्शन फेल हो जाता और ग्राहक के अकाउंट से पैसे कट जाते हैं, लेकिन बेनिफिशियरी के अकाउंट में पैसा नहीं पहुंचता है तो ऑटो-रिवर्सल ट्रांजैक्शन की तारीख से T+1 दिन में पूरा हो जाना चाहिए। यहां पर T का मतलब ट्रांजैक्शन वाला दिन और +1 का मतलब एक दिन या 24 घंटे मान सकते हैं।

यहां कर सकते हैं शिकायत
सबसे पहले आपको सर्विस प्रोवाइडर से शिकायत करनी चाहिए। अगर आपका डिजिटल ट्रांजैक्शन करने पर पैसा वापस नहीं आता है तो आप यूपीआई ऐप UPI APP जाकर अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके लिए आपको पेमेंट हिस्ट्री ऑप्शन पर जाना होगा। यहां आपको रेज डिस्प्यूट पर जाना होगा। रेज डिस्प्यूट पर अपनी शिकायत दर्ज करा दें। अगर आपकी शिकायत सही पाई गई तो बैंक आपका पैसा लौटा देगा। 

यदि शिकायत करने बावजूद बैंक से कोई रिस्पॉन्स नहीं मिलता है तो आप रिजर्व बैंक के डिजिटल ट्रांजैक्शन, 2019 के ओम्बुड्समैन स्कीम के तहत शिकायत कर सकते हैं।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र