भारतीय सीमा में घुस आया था मासूम करीम, BSF के जवानों ने बिस्किट-चॉकलेट खिलाकर पाकिस्तान को सौंपा


 जयपुर (मानवी मीडिया): राजस्थान के बाड़मेर जिले की सीमा पड़ोसी मुल्क पाकिस्तान से लगती है। शुक्रवार शाम को पाकिस्तान की ओर से 8 साल का मासूम करीम अचानक भारतीय सीमा में घुस आया। जवानों की नजर जब उस पर पड़ी तो वह जोर-जोर से रोने लगा। ऐसे में भारतीय जवानों ने मानवता की मिसाल पेश करते हुए बिस्किट-चॉकलेट और पानी पिलाकर मासूम को चुप करवाया। फिर फ्लैग मीटिंग कर उसे वापस पाकिस्तान को सौंप दिया।गौरतलब है पिछले काफी समय से भारत और पाकिस्तान की रिश्तो में कड़वाहट जगजाहिर है। ऐसे में फ्लैग मीटिंग कर 8 साल के मासूम करीम को वापस पाकिस्तान को सौंपकर भारतीय जवानों ने मानवता की मिसाल पेश की। भारतीय सेना के इस काम की तारीफ पाकिस्तानी रेंजर्स ने भी की। जानकारी के अनुसार, करीम पाकिस्तान की थारपारकर जिले की नागर परकार तहसील का रहने वाला है।

पाकिस्तान से भारतीय सीमा में घुस आया मासूमगुजरात फ्रंटियर के प्रवक्ता डीआईजी एम एल गर्ग ने बताया कि शुक्रवार शाम करीब 5 बजे अचानक बाखासर से BP No.888/2-S से एक मासूम भारतीय सीमा में घुस आया। जवानों ने उसे वापस जाने के लिए कहा, लेकिन वह जोर से रोने लगा। इस पर हमारे जवानों ने मासूम को चुप करवाया और उसके बाद फ्लैग मीटिंग करके उसे वापस पाकिस्तानी रेंजर्स को सुपुर्द कर दिया। जवानों ने मासूम को बिस्किट-चॉकलेट सहित अन्य सामग्री देकर वापस पाकिस्तान को लौटा दिया। पाकिस्तानी रेंजर्स ने जवानों की जमकर तारीफ की। उधर, जब यह घटना सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो हर कोई भारतीय सीमा सुरक्षा बल की तारीफ करते नजर आया। क्योंकि आमतौर पर पाकिस्तान में जब इस तरीके की घुसपैठ होती है तो वह शख्स को वापस नहीं करता है। पाकिस्तान उसके खिलाफ कानूनी कार्रवाई कर देता है।ऐसा ही एक मामला 4 महीने पहले सामने आया था, जब गेमराराम नाम का शख्स पाकिस्तान सीमा में दाखिल हो गया था, लेकिन अभी तक पाकिस्तान ने उसे भारत को नहीं सौंपा है। गेमराराम की रिहाई के लिए भारत सरकार कई बार खत भी लिख चुकी है, लेकिन अभी तक पाकिस्तान की ओर से कोई सकारात्मक जवाब नहीं आया है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र