व्हाट्सएप ने डब्ल्यूएचओ के साथ मिलकर किया ये काम, कोरोना वैक्सीन के प्रति जागरूकता में मिलेगी मदद

नई दिल्ली (मानवी मीडिया) फेसबुक के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के साथ मिलकर एक नया स्टीकर पैक 'वैक्सीन फॉर ऑल' लॉन्च किया है। कंपनी ने इसे कोविड-19 वैक्सीन के बारे में जागरूकता फैलाने की दिशा में और दुनियाभर के स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के प्रयासों की सराहना करने के रूप में पेश किया है।

कंपनी ने कहा कि ये स्टिकर लोगों को कनेक्ट करने के लिए एक मजेदार और रचनात्मक तरीका प्रदान करते हैं और हेल्थकेयर हीरोज के प्रति अपना सम्मान दिखाने के लिए भी स्टिकर्स का इस्तेमाल किया जाएगा। कंपनी ने 150 से ज्यादा राष्ट्रीय, राज्य और स्थानीय सरकारों के अलावा डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ के साथ मिलकर कोविड-19 से जुड़ी सटीक जानकारी मुहैया कराने की पहल शुरू की है।

कंपनी ने एक बयान में कहा, महामारी की शुरुआत के बाद से हमने 150 से अधिक राष्ट्रीय, राज्य और स्थानीय सरकारों के अलावा डब्ल्यूएचओ और यूनिसेफ जैसे संगठनों के साथ कोविड-19 हेल्पलाइन पर अपने 2 अरब से अधिक यूजर्स को सटीक जानकारी और संसाधनों से जोड़ने के लिए साझेदारी की है।

व्हाट्सएप ने कहा, "पिछले एक साल में इन वैश्विक हेल्पलाइनों पर 3 अरब से अधिक संदेश भेजे गए हैं।" जैसे कि महामारी कई देशों में एक नए चरण में प्रवेश कर चुकी है, सरकारें इंडोनेशिया, दक्षिण अफ्रीका, अर्जेंटीना, ब्राजील और भारत जैसे देशों में नागरिकों को सटीक वैक्सीन जानकारी और पंजीकरण के लिए निजी तौर पर जोड़ने के लिए इन हेल्पलाइनों का उपयोग कर रही हैं। 

कंपनी ने कहा, हम सरकारों और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों को दुनियाभर में कई लोगों को वैक्सीन की जानकारी और सेवाओं से जोड़ने में मदद करना चाहते हैं, खासकर उन जगहों पर जहां पहुंच मुश्किल है और जो हाशिए पर हैं। व्हाट्सएप ने कहा, "हमने अपने व्हाट्सएप बिजनेस एपीआई के माध्यम से संदेश भेजने की फीस भी माफ कर दी है।" स्टिकर पैक अब व्हाट्सएप के अंदर उपलब्ध है।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र