महाभारत के 'इंद्रदेव का कोरोना से निधन, दिलीप कुमार के साथ भी कर चुके हैं काम

नई दिल्ली (मानवी मीडिया) महाभारत में इंद्रदेव का रोल निभाने वाले सतीश कौल का कोरोना से निधन हो गया है। वह करीब 73 साल के थे। उन्होंने 10 अप्रैल को लुधियाना में आखिरी सांस ली। जानकारी के अनुसार, वह लंबे वक्त से बीमारी और आर्थिक तंगी से जूझ रहे थे। बताया जा रहा है कि बीते दिनों उन्हें कोरोना का संक्रमण भी हो गया था। इस दुख की घड़ी में पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने अभिनेता को ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी है।
पिछले साल उन्होंने इंटरव्यू में बताया था कि वह दवाओं, घर के सामान जैसी चीजों के लिए भी संघर्ष कर रहे हैं। उन्होंने कहा था कि उन्हें कलाकार के तौर पर तो बहुत प्यार मिला अब इंसान के रूप में भी लोगों के अंटेशन की जरूरत है। खबरें सामने आई थीं कि सतीश कौल वृ्द्धाश्रम में रह रहे हैं, हालांकि तब खुद सतीश कौल ने बताया था कि ऐसी खबरें अफवाह हैं और वो लुधियाना में एक किराए के घर में रहते हैं। हालांकि वो पहले वृद्धाश्रम में ही रहते थे।

बता दें कि 2011 में वह मुंबई से पंजाब लौट आए थे और उनकी आर्थिक हालत ठीक नहीं थी। सतीश ने कहा था कि लॉकडाउन के चलते उनकी आर्थिक हालत अधिक बिगड़ गई थी। इंटरव्यू के दौरान सतीश ने कहा था कि उनके पास दवाई और राशन जैसी आम जरूरतों के लिए भी पैसे नहीं है। साल 2015 में सतीश कौल के कूल्हे की हड्डी फ्रैक्चर हो गई थी, जिसकी वजह से करीब ढाई साल वो बिस्तर पर ही रहे। ऐसे में उनकी आर्थिक हालत और बिगड़ गई थी। वहीं बात सतीश कौल के करियर की करें तो उन्होंने 'प्यार तो होना ही था', 'आंटी नंबर वन', 'कर्मा' में दिलीप कुमार सहित करीब 300 हिंदी और पंजाबी फिल्मों में काम किया था। 

बता दें कि सतीश कौल को 'महाभारत' में भगवान इंद्र के किरदार से पहचान मिली थी। इसके साथ ही वो 'विक्रम और बेताल' के लिए भी जाने जाते हैं।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र