देश में खुलेंगे 8 नए बैंक, RBI ने जारी किए यूनिवर्सल और स्मॉल फाइनेंस बैंकों के नाम

नई दिल्ल (मानवी मीडिया) देश में कुछ और नए बैंकों के अस्तित्व में आने की उम्मीद है। देश में बड़े और छोटे बैंक जल्द ही खुलने वाले हैं। यह जानकारी खुद रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने दी है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) को ‘ऑन टैप’ यानी कभी भी लाइसेंस के लिए आवेदन करने के दिशा-निर्देशों के तहत कुल 8 आवेदन मिले हैं जिनमें सभी प्रकार की सेवाएं देने वाले यूनिवर्सल बैंक स्थापित करने के लिए चार और स्मॉल फाइनेंस बैंकों (SFB) के लिए चार आवेदन शामिल हैं।

यूएई एक्सचेंज एंड फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड, द रिपैट्रिएट्स कोऑपरेटिव फाइनेंस एंड डेवलपमेंट बैंक लि. (आरईपीसीओ बैंक), चैतन्य इंडियन फिन क्रेडिट प्राइवेट लि. और पंकज वैश्य और अन्य ने ‘ऑन टैप’ लाइसेंसिंग दिशा-निर्देशों के तहत यूनिवर्सल बैंक लाइसेंस के लिए आवेदन किया है।

फ्लिपकार्ट के सह-संस्थापक सचिन बंसल ने सितंबर, 2019 में चैतन्य में 739 करोड़ रुपए की निवेश प्रतिबद्धता के साथ बहुलांश हिस्सेदारी का अधिग्रहण किया था। बंसल चैतन्य के प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (CEO) हैं।

वहीं स्मॉल फाइनेंस बैंकों (एसएफबी) के लिए ‘ऑन टैप’ दिशा-निर्देशों के तहत वीसॉफ्ट टेक्नोलॉजीज प्राइवेट लि., कालीकट सिटी सर्विस कोऑपरेटिव बैंक लि., अखिल कुमार गुप्ता और द्वारा क्षेत्रीय ग्रामीण फाइनेंशियल सर्विसेज प्राइवेट लि. ने आवेदन किया है।

निजी क्षेत्र में यूनिवर्सल बैंकों और एसएफबी को ऑन टैप लाइसेंसिंग के दिशानिर्देश क्रमश: 1 अगस्त, 2016 और 5 दिसंबर, 2019 को जारी किए गए थे।

दिशा-निर्देशों के अनुसार, यूनिवर्सल बैंक के लिए न्यूनतम चुकता वोटिंग इक्विटी पूंजी 500 करोड़ रुपए होनी चाहिए। ऐसे में हर समय बैंक का न्यूनतम नेटवर्थ 500 करोड़ रुपये होना चाहिए। एसएफबी के मामले में न्यूनतम चुकता वोटिंग पूंजी/नेटवर्थ 200 करोड़ रुपये होना चाहिए।

अगर कोई शहरी सहकारी बैंक स्वैच्छिक रूप से एसएफबी के रूप में परिवर्तित होना चाहता है, तो नेटवर्थ की शुरुआती जरूरत 100 करोड़ रुपए है। इसे 5 साल में 200 करोड़ रुपए करने की जरूरत होगी।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र