उ0प्र0 में विगत एक वर्ष में कोरोना महामारी से निपटने के लिए उत्तर प्रदेश में योजनाबद्ध ढंग से त्वरित गति से कार्य किया गया: राज्यपाल

उ0प्र0 ने पूरे देश में कोरोना से जंग में सबसे अच्छा कार्य किया: राज्यपाल

सबके सम्मिलित प्रयासों से कोरोना के फेज-1 की लड़ाई
लड़ी गयी, इसमें उ0प्र0 पूरी तरह से सफल रहा

अपने पुराने अनुभवांे का लाभ लेते हुए कोरोना के फेज-2
को शीघ्र नियंत्रित करना होगा, ताकि इसका फैलाव रुके

वैक्सीनेशन कार्य को प्रभावी ढंग से करना होगा

कोरोना से जंग में राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री
के नेतृत्व में उत्कृष्ट कार्य किया गया: राज्यपाल

लोगांे को कोविड प्रोटोकाॅल मानने के लिए जागरूक करना होगा

प्रधानमंत्री के नेतृत्व मंे भारत ने कोरोना के खिलाफ अपनी जंग
सफलता से लड़ी, उनके नेतृत्व का लाभ उ0प्र0 को भी मिला: मुख्यमंत्री

कोविड संक्रमण की वर्तमान परिस्थिति से निपटने के लिए
सभी को अपनी-अपनी भूमिका जिम्मेदारी से निभानी होगी

राज्य सरकार द्वारा कोरोना के इस नये रूप से निपटने
के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं

काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग बढ़ाई जा रही है,
रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर टेस्टिंग की जा रही है

र्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर लोगों को सभी एहतियात बरतने होंगे

राज्य सरकार लोगों के जीवन और उनकी आजीविका की रक्षा के लिए कटिबद्ध

भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  स्वतंत्रदेव सिंह, कांग्रेस पार्टी के
प्रतिनिधि  सोहेल अख्तर अंसारी तथा बहुजन समाज पार्टी के प्रतिनिधि
 लाल जी वर्मा ने भी बैठक में अपने विचार व्यक्त किये

 कांगे्रस तथा बी0एस0पी0 के प्रतिनिधियों ने सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा
कि उनकी पार्टियां कोरोना के खिलाफ जंग में राज्य सरकार के सभी निर्णयों के साथ हैं

लखनऊ: (मानवी मीडिया) उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने आज यहां राजभवन में कोविड-19 की रोकथाम हेतु आयोजित सर्वदलीय बैठक को सम्बोधित करते हुए कहा कि विगत एक वर्ष में कोरोना महामारी से निपटने के लिए राज्य में योजनाबद्ध ढंग से त्वरित गति से कार्य किया गया था। सबके सम्मिलित प्रयासों से कोरोना के फेज-1 की लड़ाई लड़ी गयी और इसमें उत्तर प्रदेश पूरी तरह से सफल रहा। उत्तर प्रदेश ने पूरे देश में कोरोना से जंग में सबसे अच्छा कार्य किया। इससे कोरोना पर प्रभावी नियंत्रण लगा और केसेज की संख्या नगण्य हो गयी थी।
राज्यपाल  ने कहा कि अब कोरोना का वायरस अपना रूप बदलकर फिर से वापस लौटा है, जिससे स्थिति चिंताजनक हो गयी है। अब हमें अपने पुराने अनुभवांे का लाभ लेते हुए कोरोना के फेज-2 को शीघ्र नियंत्रित करना होगा, ताकि इसका फैलाव रुके। उन्होंने कहा कि सुखद यह है कि अब कोरोना का वैक्सीन उपलब्ध है। अतः वैक्सीनेशन कार्य को प्रभावी ढंग से करना होगा। उन्होंने आशा व्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना के फेज-2 की जंग में भी उत्तर प्रदेश प्रथम आयेगा।
राज्यपाल ने कहा कि कोरोना से जंग में राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  के नेतृत्व में उत्कृष्ट कार्य किया गया। मुख्यमंत्री  ने कोरोना संक्रमण को रोकने तथा संक्रमित मरीजों को दिये जाने वाले उपचार इत्यादि की स्थिति और प्रगति की जानकारी लेने के लिए प्रदेश के सभी जनपदांे का निरन्तर दौरा किया।
राज्यपाल जी ने कहा कि कोरोना के फेज-2 संक्रमण से लड़ने के लिए हम सबको प्रयास करने होंगे। लोगांे को कोविड प्रोटोकाॅल मानने के लिए जागरूक करना होगा। ट्रेसिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेन्ट के मंत्र को प्रभावी ढंग से लागू करना होगा। उन्होंने कहा कि लोगों को मास्क पहनने के विषय में भी जागरूक किया जाए और मास्क न पहनने वालों से जुर्माना वसूला जाए। उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों एवं काॅलेजों के विद्यार्थियों के वैक्सीनेशन पर विचार किया जाना चाहिए। साथ ही, इनके परिवारों में मौजूद 45 वर्ष तथा इससे ऊपर के सदस्यों का भी वैक्सीनेशन कराया जाना चाहिए। इससे बड़ी संख्या में वैक्सीनेशन हो सकेगा। उन्होंने शहरों की रिहायशी सोसायटियों में ऐसी निगरानी समितियां बनाने का सुझाव दिया, जो अपने सदस्यों की आवश्यकताओं के अनुसार बाजार से खरीदारी कर सामान उन्हें उपलब्ध करा सकें, ताकि बाजारों मंे कम भीड़ हो।
राज्यपाल  ने कहा कि लोगोें को अनावश्यक घर से बाहर न निकलने के सम्बन्ध में जागरूक किया जाए। उन्होंने निजी अस्पतालों मंे इलाज की सुविधा तथा इसके शुल्क की वसूली के सम्बन्ध में माॅनीटरिंग व्यवस्था पर बल दिया, ताकि मरीजों का अनावश्यक दोहन न हो। उन्होंने मीडिया को सभी आवश्यक जानकारी उपलब्ध कराते रहने के लिए कहा। सोशल मीडिया की भी माॅनीटरिंग की जाए।
बैठक को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  ने कहा कि प्रधानमंत्री  नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व मंे भारत ने कोरोना के खिलाफ अपनी जंग सफलता से लड़ी है। उनके नेतृत्व का लाभ उत्तर प्रदेश को भी मिला है। उन्होंने कहा कि कोविड संक्रमण की वर्तमान परिस्थिति से निपटने के लिए सभी को अपनी-अपनी भूमिका जिम्मेदारी से निभानी होगी।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि विगत वर्ष जब कोरोना महामारी सामने आयी तब प्रदेश में कोविड टेस्टिंग की सुविधा उपलब्ध नहीं थी, परन्तु आज प्रदेश में 02 लाख टेस्टिंग की क्षमता मौजूद है। पिछले वर्ष कोरोना से जंग में प्रदेश में बहुत से कार्य हुए। कोविड संक्रमण की रोकथाम और इसके उपचार के सम्बन्ध मंे अनेक नये कदम उठाए गये। इसके चलते कोरोना संक्रमण को नियंत्रित करने में सफलता मिली। संक्रमण कम होने बाद कोरोना केसेज सिर्फ दहाई में ही रिपोर्ट हो रहे थे।
मुख्यमंत्री  ने कहा कि कोरोना का नया वायरस चिंताजनक है, जो तीव्रता से संक्रमण फैला रहा है। लोगों को संक्रमण से बचने के लिए सावधानी बरतनी होगी। कोरोना प्रोटोकाॅल का अनुपालन करना होगा। मास्क अनिवार्य रूप से पहनना होगा। बचाव और सावधानी महत्वपूर्ण है। राज्य सरकार द्वारा कोरोना के इस नये रूप से निपटने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं। काॅन्टैक्ट ट्रेसिंग और टेस्टिंग बढ़ाई जा रही है। रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों पर टेस्टिंग की जा रही है। इसी प्रकार फोकस्ड टेस्टिंग पर ध्यान दिया जा रहा है। जनता का सहयोग अपेक्षित है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्तमान परिस्थितियों के मद्देनजर लोगों को सभी एहतियात बरतने होंगे। हाई रिस्क कैटेगरी के लोग, जिनमें बुजुर्ग, बच्चे और गर्भवती महिलाएं शामिल हैं, अभी बाहर न निकलें। वे स्वयं को संक्रमण से बचाएं। मास्क लगाएं और सभी सावधानियां बरतें। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव के दौरान कोरोना प्रोटोकाॅल का अनुपालन किया जाए। राज्य सरकार लोगों के जीवन और उनकी आजीविका की रक्षा के लिए कटिबद्ध है।
कार्यक्रम को उप मुख्यमंत्री  केशव प्रसाद मौर्य तथा डाॅ0 दिनेश शर्मा ने भी सम्बोधित किया। भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष  स्वतंत्रदेव सिंह, कांग्रेस पार्टी के प्रतिनिधि  सोहेल अख्तर अंसारी तथा बहुजन समाज पार्टी के प्रतिनिधि  लाल जी वर्मा ने भी बैठक में अपने विचार व्यक्त किये। कांगे्रस तथा बी0एस0पी0 के प्रतिनिधियों ने सरकार के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि उनकी पार्टियां कोरोना के खिलाफ जंग में राज्य सरकार के सभी निर्णयों के साथ हैं। बैठक का संचालन चिकित्सा शिक्षा मंत्री  सुरेश खन्ना ने किया। धन्यवाद ज्ञापन स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने किया। इससे पूर्व अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य  अमित मोहन प्रसाद द्वारा कोविड-19 के सम्बन्ध में प्रस्तुतीकरण किया गया।
इस अवसर पर मुख्य सचिव आर0के0 तिवारी, राज्यपाल के अपर मुख्य सचिव महेश कुमार गुप्ता, अपर मुख्य सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी, अपर मुख्य सचिव सूचना एवं एम0एस0एम0ई0  नवनीत सहगल, अपर मुख्य सचिव मुख्यमंत्री एस0पी0 गोयल, प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा आलोक कुमार तथा सूचना निदेशक  शिशिर मौजूद थे।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र