पश्चिम बंगाल चुनाव आयोग की दो टूक, हिंसा बिल्कुल बर्दाश्त नहीं, सुरक्षाबलों को बदमाशों से निपटने के अधिकार

कोलकाता (मानवी मीडिया) चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दूसरे चरण के मतदान से पहले फिर चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि चुनाव के दौरान किसी भी तरह की कोई हिंसक वारदात बर्दाश्त नहीं की जायेगी। चुनाव आयोग ने पश्चिम बंगाल में दूसरे चरण के एक अप्रैल को होने वाले मतदान से पहले बदमाशों की ओर से किये जाने वाले किसी तरह के प्राणघातक हमले के समय आत्म-रक्षा के लिए कार्रवाई करने को सुरक्षा बलों को अधिकृत कर दिया है। दूसरे चरण में दक्षिण 24 परगना, पश्चिमी और पूर्वी मेदिनीपुर तथा दक्षिण 24 परगना जिलों की 30 सीटों के लिए मतदान होगा। इनमें से नंदीग्राम सीट पर सभी की नजरें टिकी हैं। यहां मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके सहयोगी रहे शुवेन्दु अधिकारी भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) के टिकट पर आमने-सामने हैं।

आयोग की यह नयी चेतावनी पूर्वी मेदिनीपुर जिले के अरवालम गांव में केन्द्रीय सुरक्षा बलों के जवानों और पतशपुर थाना प्रभारी दीपक चक्रवर्ती पर पहले चरण के मतदान के दिन 26 मार्च को बम से किये गये हमले के मद्देनजर आयी है। आयोग के सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि यदि ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है तो चुनाव ड्यूटी में लगे जवान हमलावरों को खदेडऩे के लिए हथियारों का इस्तेमाल कर सकते हैं। दूसरे चरण के चुनावों के लिए संबंधित चारों जिलों में केन्द्रीय बलों की 651 कम्पनी तैनात की गयी हैं। नंदीग्राम विधानसभा क्षेत्र में प्रशासन ने केन्द्रीय सुरक्षा बल की 21 कंपनियाँ तैनात की हैं। नंदीग्राम में 341 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। ये सभी संवेदनशील श्रेणी में रखे गये हैं। यहां से संयुक्त मोर्चा की ओर से माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की मीनाक्षी मुखर्जी अपनी किस्मत आजमा रही हैं। आयोग ने राज्य और केन्द्रीय बलों से समन्वय बनाने के भी आदेश जारी किये हैं।

Popular posts from this blog

उ0प्र0:: सीओ महिला सिपाही के साथ आपत्तिजनक स्थित में पकड़े गए

लखनऊ ,उ0प्र0में कोरोना की तीसरी वेव ने दी दस्तक, 50 से ज्यादा मौत, मुख्यमंत्री योगी ने दिए सख्त निर्देश

उत्तर प्रदेश राज्य भण्डारण निगम के गोदामों में तीस हज़ार श्रमिक, जो ठेकेदारों द्वारा भर्ती किये जा रहे थे उन्हें नियमितीकरण कराने के लिए , मुख्यमंत्री योगी को लिखा पत्र